Team India: 2021 से लेकर अब तक 54 खिलाड़ियों का इस्तेमाल हुआ, सिर्फ 3 प्लेयर्स ने 50 फीसद से ज्यादा मैच खेले


ख़बर सुनें

भारतीय क्रिकेट टीम में पिछले कुछ सालों में काफी बदलाव देखने को मिला है। चाहे बात कप्तान की हो या नए-नए खिलाड़ियों का आजमाने की, पिछले कुछ समय में यह भारतीय टीम मैनेजमेंट की स्ट्रैटजी का हिस्सा बन गया है। भारतीय टीम मैनेजमेंट ने पिछले साल तीनों फॉर्मेट को मिलाकर कुल 48 खिलाड़ियों का आजमाया था, वहीं, इस साल अब तक यह आंकड़ा 39 है।
दोनों साल को मिला दिया जाए तो 2021 की शुरुआत से लेकर अब तक भारतीय टीम में तीनों फॉर्मेट को मिलाकर 54 खिलाड़ियों को आजमाया जा चुका है। इतना ही नहीं सात अलग-अलग कप्तान इस साल अब तक भारतीय टीम की कमान संभाल चुके हैं। इस मामले में टीम इंडिया ने श्रीलंका द्वारा 2017 में बनाए रिकॉर्ड की बराबरी की।

श्रीलंका ने भी 2017 में सात अलग-अलग कप्तान बनाए थे। इस साल केएल राहुल, विराट कोहली, रोहित शर्मा, ऋषभ पंत, हार्दिक पांड्या, जसप्रीत बुमराह और शिखर धवन अलग-अलग फॉर्मेट में टीम इंडिया की कप्तानी कर चुके हैं।
पिछले साल आजमाए गए 48 खिलाड़ी किसी एक साल में भारत द्वारा इस्तेमाल किए गए सबसे ज्यादा खिलाड़ियों का रिकॉर्ड है। भारत ने कुल 36 अंतरराष्ट्रीय मैचों में इतने खिलाड़ियों को आजमाया। इनमें से 19 खिलाड़ियों ने पहली बार भारत के लिए कोई अंतरराष्ट्रीय मैच खेला। इस मामले में भारत ने क्रिकेट के फुल मेंबर देशों में इंग्लैंड के रिकॉर्ड की बराबरी की। 1921 में इंग्लैंड के लिए भी एक कैलेंडर ईयर में 19 खिलाड़ियों ने अंतरराष्ट्रीय डेब्यू किया था। 

वहीं, 11 खिलाड़ियों ने 2021 में भारत के लिए टी-20 डेब्यू किया। हालांकि, भारत का 48 खिलाड़ियों का आजमाना वेस्टइंडीज के रिकॉर्ड से कम है। वेस्टइंडीज ने 2021 में कुल 55 खिलाड़ियों को आजमाया था। तीसरे नंबर पर श्रीलंका है, जिसने 2017 में 57 अंतरराष्ट्रीय मैचों में 46 खिलाड़ियों को आजमाया था। 2021 से लेकर अब तक भारत कुल 54 खिलाड़ियों को प्लेइंग-11 में आजमा चुका है। 
अब बात करते हैं 2021 से लेकर अब तक भारत के लिए सबसे ज्यादा अंतरराष्ट्रीय मैच खेलने की। हम ऐसा इसलिए कह रहे हैं क्योंकि, पिछले कुछ सालों में भारत के सीनियर खिलाड़ी ज्यादातर मैचों में गायब रहे हैं। उन्हें समय-समय पर आराम दिया जाता रहा है।

यही वजह कि कई खिलाड़ियों को आजमाया जा चुका है। भारत ने 2021 से लेकर अब तक तीनों फॉर्मेट यानी टेस्ट, वनडे और टी-20 मिलाकर कुल 74 मैच खेले हैं। इनमें सिर्फ तीन खिलाड़ियों ने ही 50 प्रतिशत से ज्यादा मैचों में हिस्सा लिया है।
यह तीन खिलाड़ी हैं- ऋषभ पंत, रोहित शर्मा और विराट कोहली। पंत ने सबसे ज्यादा 54 मैच खेले हैं। वहीं, रोहित ने 46 और कोहली ने 40 मैच खेले हैं। इसके अलावा बाकी सभी खिलाड़ी 50 प्रतिशत से भी कम मैच खेल पाए हैं। इसकी सबसे बड़ी वजह टीम में किसी खिलाड़ी का निरंतर नहीं होना रहा है। कुल 74 मैचों में से आठ खिलाड़ियों ने भारत के लिए 30 से ज्यादा मैच खेले हैं। वहीं, 20 से 29 मैच खेलने वालों की संख्या नौ रही है।
13 खिलाड़ियों ने भारत के लिए 11 से 19 मैच खेले हैं। नौ खिलाड़ियों ने छह से 10 और 15 खिलाड़ियों ने एक से पांच मैच खेले हैं। कुल 74 मैचों में से भारत ने 19 टेस्ट, 18 वनडे और 37 टी-20 खेले हैं। 2021 से लेकर अब तक 19 टेस्ट में भारत ने 26 खिलाड़ियों को आजमाया है। वहीं, 18 वनडे में 37 खिलाड़ियों को आजमाया गया है। 37 टी-20 में भारतीय टीम मैनेजमेंट ने 41 खिलाड़ियों को अब तक आजमा लिया है। 
इन 19 टेस्ट में से ऋषभ पंत और चेतेश्वर पुजारा ने भारत के लिए सबसे ज्यादा 17-17 टेस्ट खेले हैं। वहीं, 18 वनडे में से शिखर धवन ने सबसे ज्यादा 16 वनडे खेले हैं। 37 टी-20 में से भुवनेश्वर कुमार ने सबसे ज्यादा 29 टी-20 खेले हैं। पिछले 20 महीने में टेस्ट में पांच, वनडे में 12 और टी-20 में 16 खिलाड़ियों ने भारत के लिए डेब्यू किया है। 

विस्तार

भारतीय क्रिकेट टीम में पिछले कुछ सालों में काफी बदलाव देखने को मिला है। चाहे बात कप्तान की हो या नए-नए खिलाड़ियों का आजमाने की, पिछले कुछ समय में यह भारतीय टीम मैनेजमेंट की स्ट्रैटजी का हिस्सा बन गया है। भारतीय टीम मैनेजमेंट ने पिछले साल तीनों फॉर्मेट को मिलाकर कुल 48 खिलाड़ियों का आजमाया था, वहीं, इस साल अब तक यह आंकड़ा 39 है।



Source link

Leave a Reply