Calcium Deficiency: कैल्शियम की कमी के संकेत देती है आपकी स्किन, जानें इसके अन्य लक्षण

हाइलाइट्स

कैल्शियम की कमी से स्किन हो सकती है अधिक ड्राई.
कैल्शियम की कमी से हड्डियां हो जाती हैं पतली.
कैल्शियम डेफि‍शिएंसी ओवरऑल हेल्‍थ को करती है खराब.

Symptoms Of Calcium Deficiency- कैल्‍शियम सिर्फ बोन हेल्‍थ के लिए ही नहीं बल्कि स्‍किन,  मसल्‍स, दांत और हार्ट के लिए भी जरूरी है. कैल्शियम एक महत्‍वपूर्ण मिनरल है जो स्‍वस्‍थ शरीर के लिए आवश्‍यक है. कैल्शियम ब्‍लड क्‍लॉटिंग की समस्‍या से बचाता है. कैल्शियम हड्डियों और मांसपेशियों के विकास के लिए जरूरी है. कैल्शियम की कमी होने पर शरीर में कई तरह के बदलाव दिखाई देने लगते हैं. सबसे ज्‍यादा बदलाव स्किन पर होता है.

कैल्शियम की कमी से स्किन ड्राई और फटी हुई नजर आने लगती है. कैल्शियम की कमी से नाखुन भी कमजोर होकर टूटने लगते हैं. इसके कई लक्षण सामान्‍य से लगते हैं जिस वजह से कैल्शियम डेफिशियंसी का पता देर से लग पाता है. चलिए जानते हैं कैल्शियम की कमी से पैदा होने वाले लक्षणों के बारे में.

मसल्‍स प्रॉब्‍लम
कैल्शियम की कमी यानि कैल्शियम डेफिशियंसी होने पर कई तरह की समस्‍याओं का सामना करना पड़ सकता है. मेडिकल न्यूज टुडे के अनुसार कैल्शियम की कमी से मसल्‍स में दर्द, ऐंठन, हाथों व पैरों में दर्द, सुन्‍नपन और झुनझुनी की समस्‍या हो सकती है. कैल्शियम की कमी उम्र के साथ बढ़ जाती है.



अत्‍यधिक थकान
कैल्शियम की कमी से शरीर में एनर्जी की कमी और सुस्‍ती महसूस होती है. कैल्शियम की कमी से नींद न आने की समस्‍या भी हो सकती है. कई लोगों में फोकस की कमी, भूलने की बीमारी, चक्‍कर और कंफ्यूजन जैसी दिमागी परेशानी का खतरा भी बढ़ जाता है.

यह भी पढ़ेंः क्या नॉनवेज खाने से हो सकते हैं मोटापे का शिकार? यहां जानें हकीकत

नाखून और स्‍किन डैमेज
कैल्शियम की कमी के कारण नाखून और स्किन डैमेज हो सकती हैं. स्किन में ड्राईनेस, खुरदुरापन व लाल पैचेज जैसे लक्षण देखे जा सकते हैं. वहीं कैल्शियम की कमी से नाखुन कमजोर और पीले पड़ने लगते हैं. ये आसानी से टूटने लग जाते हैं. कैल्शियम की कमी होने पर नाखुनों की ग्रोथ भी रुक सकती है.

इसे भी पढ़ें: Sound Sleep Benefits: अच्छी और गहरी नींद लेने के ये हैं 5 बड़े फायदे

बढ़ सकता है ऑस्टियोपोरोसिस
कैल्शियम हड्डियों को मजबूती देने का काम करती है. कैल्शियम की कमी से हड्डियां कमजोर होकर टूटने लग जाती हैं और चोट लगने का खतरा भी कई गुना बढ़ जाता है. समय के साथ हड्डियों में पोषक तत्‍वों की कमी हो जाती है जिस वजह से ऑस्टियोपोरोसिस भी हो सकता है. कैल्शियम की कमी के चलते पैरों में दर्द बना रहता है.

Tags: Health, Health problems, Lifestyle

Source link