Ayushman Bharat Yojana: 5 लाख रुपये तक का करा सकते हैं मुफ्त इलाज, जानें क्या है आयुष्मान भारत योजना?


Ayushman Bharat Yojana: देश में आज भी ऐसे लोगों की संख्या काफी अधिक है, जो आर्थिक रूप से कमजोर होने के कारण बुनियादी स्वास्थ्य सुविधाओं का लाभ नहीं उठा पा रहे हैं। ऐसे लोगों के ऊपर जब भी किसी प्रकार की गंभीर स्वास्थ्य समस्या आती है। इस स्थिति में उनके ऊपर आफतों का पहाड़ टूट पड़ता है। आर्थिक रूप से मजबूत न हो पाने की स्थिति में वह अपना इलाज नहीं करा पाते हैं। देश के लोगों की इसी समस्या को देखते हुए भारत सरकार ने Ayushman Bharat Yojana की शुरुआत की है। इस योजना के अंतर्गत लाभार्थी का एक गोल्डन कार्ड बनता है। इस कार्ड की सहायता से वह अपना पांच लाख रुपये तक का मुफ्त इलाज करवा सकते हैं। देश में बड़े पैमाने पर लोग भारत सरकार की इस योजना में आवेदन कर रहे हैं। स्कीम के अंतर्गत भारत सरकार बड़े पैमाने पर लोगों को इस स्वास्थ्य बीमा के तहत कवर करना चाहती है।

आयुष्मान भारत योजना के अंतर्गत लाभार्थी अपना उन्हीं अस्पतालों में 5 लाख रुपये तक का मुफ्त इलाज करा सकता है, जो कि केंद्र सरकार द्वारा सूचीबद्ध किए गए हैं। भारत सरकार ने इस योजना की शुरुआत साल 2018 में की थी। 

भारत सरकार की इस महत्वाकांक्षी योजना में आवेदन करने से पहले आपको अपनी पात्रता की जांच करनी होगी। आप ऑनलाइन और ऑफलाइन दोनों ही तरह से अपनी पात्रता की जांच कर सकते हैं। ऑनलाइन प्रक्रिया में आपको आयुष्मान भारत योजना की आधिकारिक वेबसाइट पर विजिट करके अपनी पात्रता की जांच करनी होगी।

वहीं ऑफलाइन प्रक्रिया के तहत आपको अपनी पात्रता की जांच करने के लिए नजदीकी जन सेवा केंद्र पर विजिट करना होगा। देश भर में बड़े पैमाने पर लोग इस स्कीम में आवेदन कर रहे हैं। अगर आप भी 5 पांच लाख रुपये के इस बीमा कवर का लाभ उठाना चाहते हैं। ऐसे में आपको जल्द से जल्द इस योजना में आवेदन करना चाहिए।

आयुष्मान भारत योजना की आधिकारिक वेबसाइट पर विजिट करके आप आसानी से इस स्कीम में अपना आवेदन कर सकते हैं। इसके अलावा आप अपने नजदीकी जनसेवा केंद्र पर विजिट करके भी इस स्कीम में अपना आवेदन कर सकते हैं। इस स्वास्थ्य बीमा कवर स्कीम में आवेदन करने के लिए आपके पास परिवार के सभी लोगों का आधार कार्ड, राशन कार्ड, मोबाइल नंबर, निवास प्रमाण पत्र का होना जरूरी है। 



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published.