स्वच्छ सर्वेक्षण 2022 में वाराणसी ने बरकरार रखा ओडीएफ ++ का दर्जा, खुले में शौच से मुक्त

वाराणसी। बनारस को खुले में शौच से मुक्त क्षेत्र के तौर पर सबसे बेहतर रैंकिंग मिली है। बनारस ने ‘ओडीएफ प्लस प्लस’ की श्रेणी में अपना दर्जा बरकरार रखा है। साल 2020 में बनारस को पहली बार यह रैंकिंग मिली थी। यह घोषणा शहरी विकास मंत्रालय की ओर से शुक्रवार को स्वच्छ सर्वेक्षण 2022 की इस श्रेणी की जारी रैंकिंग में की गई। 

मई-जून 2022 में मंत्रालय की टीम ने शहर में सर्वेक्षण किया था। ओडीएफ प्लस प्लस का दर्जा मिलने के कारण शहर को स्वच्छ सर्वेक्षण 2022 के मुख्य परिणाम में भी बेहतर रैंकिंग की उम्मीद जगी है। 6000 अंकों के स्वच्छ सर्वेक्षण 2022 में ओडीएफ की श्रेणी पर एक हजार अंक निर्धारित हैं। यह रैकिंग सर्टिफिकेशन में दी गई है। उम्मीद है कि इन एक हजार अंकों में बनारस ने बेहतर अंक हासिल किए होंगे जिसका प्रत्यक्ष लाभ अंतिम परिणाम में मिल सकता है।  

साल 2016 और 2017 में बनारस को ओडीएफ जबकि 2018-2019 में ओडीएफ प्लस का दर्जा हासिल हुआ था। पिछले वर्ष कोरोना की दूसरी लहर के प्रकोप के कारण यह सर्वे नहीं हो पाया था। 

ये भी पढ़ें: यूपी के इस नगर निगम के खजाने में सवा लाख नए घर मालिक जमा कराएंगे टैक्‍स, 50 वार्डों में अब भी सर्वे बाकी

शहरी मंत्रालय की टीम ने कुल 51 स्थानों का निरीक्षण किया था। सामुदायिक व सार्वजनिक शौचालयों, नालियों, नालों की सफाई, एसटीपी, यूरिनल व लोगों के फीडबैक के आधार पर यह परिणाम आया है। नगर स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. एनपी सिंह ने कहा कि ओडीएफ प्लस प्लस पर कार्ययोजना के अंतर्गत समयबद्ध तरीके से समुचित कार्रवाई का सकारात्मक परिणाम मिला है। 

स्थान                              फील्ड रिपोर्ट

हरिश्चंद्र घाट, शिवाला          बहुत साफ

चौरामाता मंदिर-लहुराबीर    बहुत साफ

अस्सी से भदैनी                    प्रेरक

मलदहिया से लहुराबीर          साफ

भेलूपुर-सोनारपुरा                बेहतर

नई सड़क से चेतगंज          बहुत साफ

पाण्डेय हवेली-सोनारपुरा       बेहतर

बेस्ट शौचालय 

दशाश्वमेध, संत रविदास से बीएचयू गेट 

इन स्थलों ने दिलाई बेहतर रैकिंग

कुछ इलाकों को टीम ने ओडीएफ प्लस प्लस श्रेणी में रखा है। इससे बनारस की रैकिंग को इस स्तर तक पहुंचने में आसानी हुई। ये इलाके हैं-कैंट बस स्टैण्ड के आसपास, दुर्गाकुंड, दालमंडी, सूरज कुंड, सेवासदन अस्पताल के आसपास, छत्तातले, कच्ची सराय।

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published.