यूक्रेन युद्ध 30वां दिन : रूस ने कैलिबर मिसाइल से उड़ाया सबसे बड़ा तेल डिपो, मैरियूपोल में थियेटर पर हमले में 300 की गई जान

सार

यूक्रेन पर हमलों के खिलाफ पुतिन के विशेष आर्थिक दूत अनातोली चुबैस के साथ कई अन्य रूसी शख्सियतें भी अपने पदों के साथ देश भी छोड़ गए हैं। रूस के पूर्व उप प्रधानमंत्री और अंतरराष्ट्रीय शतरंज संघ के अध्यक्ष अर्केडी वोरकोविच भी यूक्रेन पर हमलों की निंदा कर चुके हैं। साथ ही वोरकोविच ने स्कोलकोवो फाउंडेशन के अध्यक्ष पद से भी इस्तीफा दे दिया। सरकारी एनटीवी चैनल की एंकर लिलिया गिल्देयेवा  इस्तीफा देकर विदेश जा चुकी हैं।

ख़बर सुनें

युद्ध के 30वें दिन रूस ने यूक्रेन के कीव, मैरियूपोल समेत कई शहरों में जबरदस्त हवाई और मिसाइल हमले किए। रूसी सेना ने कीव के बाहर स्थित एक महत्वपूर्ण तेल डिपो को मिसाइल हमला कर उड़ा दिया। वहीं मैरियूपोल स्थानीय प्रशासन का कहना है कि थियेटर पर रूस के हवाई हमलों में वहां शरण लिए 300 लोग मारे गए हैं। यह हमला 16 मार्च को किया गया था। इस थियेटर का इस्तेमाल बम शेल्टर के तौर पर किया जा रहा था।

रूसी रक्षा मंत्रालय के प्रवक्ता इगोर कोनाशेंकोव ने बताया कि रूसी सेना ने बृहस्पतिवार शाम को समुद्री जहाज से अपनी कैलिबर क्रूज मिसाइल से कीव के बाहर स्थित महत्वपूर्ण तेल डिपो पर हमला किया। मिसाइल हमले में डिपो पूरी तरह से तबाह हो गया। उन्होंने बताया कि इस डिपो का इस्तेमाल देश के मध्य में यूक्रेन की सशस्त्र बलों को ईंधन की आपूर्ति करने में किया जा रहा था।

रूस ने रासायनिक हथियार इस्तेमाल किए तो नाटो देगा जवाब : बाइडन
यूक्रेन को अधिक सहायता और रूस पर नए प्रतिबंधों का वादा करते हुए अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडन ने कहा कि अगर रूस ने यूक्रेन में रासायनिक हथियार इस्तेमाल किए तो नाटो उसे तत्काल जवाब देगा। हमारी प्रतिक्रिया इनके उपयोग की प्रकृति पर निर्भर करेगी। नाटो व जी-7 देशों की आपात बैठक के बाद उन्होंने कहा, हम यह निर्णय (जवाबी कार्रवाई) उस वक्त ही करेंगे। हालांकि, यह कार्रवाई क्या और कैसी होगी,    इस पर अमेरिकी राष्ट्रपति ने कुछ साफ नहीं किया।

खारकीव में भीषण बमबारी, दहशत
युद्ध के 30वें दिन रूसी सेना ने कई शहरों पर बमबारी तेज कर दी है। खारकीव में रातभर लगातार गोलाबारी की गई। रह-रहकर धमाके गूंजते रहे और लोग दहल उठे। हालांकि अभी यह स्पष्ट नहीं हुआ है  लेकिन आशंका है कि आवासीय इलाके बुरी तरह से प्रभावित हुए हैं। रूस की सेना को खारकीव पर हमले और तेज करने का आदेश मिला है। इसका कारण यूक्रेन पर रूस का नियंत्रण नहीं हो पाना बताया जा रहा है।

कीव के पूर्वी कस्बों पर यूक्रेन की पकड़ फिर मजबूत
यूक्रेन की सेना ने कीव के पूर्वी कस्बों और रक्षा चौकियों पर अपनी पकड़ फिर मजबूत कर ली है और रूसी सैनिकों को पीछे हटना पड़ा है।  कीव के पूर्वी उपनगर बॉरिस्पिल के मेयर ने कहा कि यूक्रेनी सेना ने एक गांव पर फिर कब्जा कर लिया है और हजारों नागरिक लौट आए हैं। बॉरिस्पिल में ही कीव का प्रमुख एयरपोर्ट है। कई शहर वीरान हो गए हैं। जो लोग बचे भी हैं, उन्हें भोजन के लाले पड़ गए हैं। खारकीव में अधिकतर बुजुर्ग महिलाएं ही बची हैं। कीव में लोगों के शव उठाने वाला कोई नहीं है।

230 स्कूल और 155 किंडरगार्टन तबाह हुए
यूक्रेन के राष्ट्रपति जेलेंस्की ने दावा किया है कि 128 बच्चों समेत हजारों लोग अब तक मारे जा चुके हैं। कीव में 80 से अधिक इमारतें तबाह हो चुकी हैं। देशभर में 230 स्कूल और 155 किंडरगार्टन तबाह हो चुके हैं। एक करोड़ लोग अपनी जगहों से विस्थापित हुए हैं जबकि 35 लाख लोग देश छोड़कर दूसरे देशों को जा चुके हैं।

रूसी सैनिकों ने अपने ही कमांडर को टैंक से कुचल कर मार डाला
रूस की 37वीं मोटर राइफल ब्रिगेड सैनिकों ने अपने ही कमांडर कर्नल यूरी मेदवेदेव पर जान-बूझकर टैंक चढ़ा दिया। यूक्रेनी पत्रकार रोमन सिंबाल्युइक के मुताबिक, मेदवेदव की यूनिट के फौजियों ने बगावत कर दी और उन पर टैंक चढ़ा दिया। हमले के दौरान अब तक एक लेफ्टिनेंट जनरल समेत 9 वरिष्ठ कमांडर मारे जा चुके हैं।

जंग के मैदान से लाइव कंसर्ट की तैयारी
रूस के खिलाफ लड़ रहे यूक्रेनी पॉप बैंड एंटीलिया के मुख्य गायक टारस तोपोलिया, कीबोर्ड प्लेयर सेरहाई व्युस्क और गिटारिस्ट दमित्रो जोलुड हथियारों के साथ। एंटीलिया ने भी यूक्रेन के लिए कोष जुटाने के लिए 29 मार्च को बर्मिंघम में होने वाले लाइव कंसर्ट में भी वीडियो लिंक के जरिए भाग लेने की मंशा जताई है।

जंग के खिलाफ रूसी हस्तियों ने इस्तीफे दिए, कुछ तो देश छोड़कर ही चले गए
यूक्रेन पर हमलों के खिलाफ पुतिन के विशेष आर्थिक दूत अनातोली चुबैस के साथ कई अन्य रूसी शख्सियतें भी अपने पदों के साथ देश भी छोड़ गए हैं। रूस के पूर्व उप प्रधानमंत्री और अंतरराष्ट्रीय शतरंज संघ के अध्यक्ष अर्केडी वोरकोविच भी यूक्रेन पर हमलों की निंदा कर चुके हैं। साथ ही वोरकोविच ने स्कोलकोवो फाउंडेशन के अध्यक्ष पद से भी इस्तीफा दे दिया। सरकारी एनटीवी चैनल की एंकर लिलिया गिल्देयेवा  इस्तीफा देकर विदेश जा चुकी हैं। एक अन्य एंकर झाना एगालाकोवा भी नौकरी और देश छोड़ने वालों में शामिल हैं।

विस्तार

युद्ध के 30वें दिन रूस ने यूक्रेन के कीव, मैरियूपोल समेत कई शहरों में जबरदस्त हवाई और मिसाइल हमले किए। रूसी सेना ने कीव के बाहर स्थित एक महत्वपूर्ण तेल डिपो को मिसाइल हमला कर उड़ा दिया। वहीं मैरियूपोल स्थानीय प्रशासन का कहना है कि थियेटर पर रूस के हवाई हमलों में वहां शरण लिए 300 लोग मारे गए हैं। यह हमला 16 मार्च को किया गया था। इस थियेटर का इस्तेमाल बम शेल्टर के तौर पर किया जा रहा था।

रूसी रक्षा मंत्रालय के प्रवक्ता इगोर कोनाशेंकोव ने बताया कि रूसी सेना ने बृहस्पतिवार शाम को समुद्री जहाज से अपनी कैलिबर क्रूज मिसाइल से कीव के बाहर स्थित महत्वपूर्ण तेल डिपो पर हमला किया। मिसाइल हमले में डिपो पूरी तरह से तबाह हो गया। उन्होंने बताया कि इस डिपो का इस्तेमाल देश के मध्य में यूक्रेन की सशस्त्र बलों को ईंधन की आपूर्ति करने में किया जा रहा था।

रूस ने रासायनिक हथियार इस्तेमाल किए तो नाटो देगा जवाब : बाइडन

यूक्रेन को अधिक सहायता और रूस पर नए प्रतिबंधों का वादा करते हुए अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडन ने कहा कि अगर रूस ने यूक्रेन में रासायनिक हथियार इस्तेमाल किए तो नाटो उसे तत्काल जवाब देगा। हमारी प्रतिक्रिया इनके उपयोग की प्रकृति पर निर्भर करेगी। नाटो व जी-7 देशों की आपात बैठक के बाद उन्होंने कहा, हम यह निर्णय (जवाबी कार्रवाई) उस वक्त ही करेंगे। हालांकि, यह कार्रवाई क्या और कैसी होगी,    इस पर अमेरिकी राष्ट्रपति ने कुछ साफ नहीं किया।

खारकीव में भीषण बमबारी, दहशत

युद्ध के 30वें दिन रूसी सेना ने कई शहरों पर बमबारी तेज कर दी है। खारकीव में रातभर लगातार गोलाबारी की गई। रह-रहकर धमाके गूंजते रहे और लोग दहल उठे। हालांकि अभी यह स्पष्ट नहीं हुआ है  लेकिन आशंका है कि आवासीय इलाके बुरी तरह से प्रभावित हुए हैं। रूस की सेना को खारकीव पर हमले और तेज करने का आदेश मिला है। इसका कारण यूक्रेन पर रूस का नियंत्रण नहीं हो पाना बताया जा रहा है।

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published.