प्रतापगढ़ : भदरी किले के चारों तरफ फोर्स तैनात, उदय प्रताप सिंह के बाहर निकलने पर लगाई रोक

ख़बर सुनें

कुंडा इलाके के शेेखपुर आशिक गांव में बना मोहर्रम का गेट हटाने को लेकर तीन दिन से तहसील में धरने पर बैठे पूर्व मंत्री और विधायक राजाभैया के पिता उदय प्रताप सिंह को शुक्रवार को प्रशासन ने घर में नजरबंद कर दिया। वह सुबह स्नान और पूजापाठ के लिए धरनास्थल से भदरी कोठी गए। तभी प्रशासन ने घेराबंदी कर ली। 

शेखपुर में लगे गेट को हटवाने के लिए भदरी किला निवासी उदय प्रताप सिंह बुधवार सुबह करीब दस बजे कुंडा तहसील में धरने पर बैठ गए थे। प्रशासनिक और पुलिस अफसरों ने उन्हें समझाकर धरना समाप्त कराने का प्रयास किया। रात में डीएम-एसपी भी उनके पास पहुंचे और साथ बैठकर खाना खाया। इसके बाद भी उदय प्रताप धरने से उठने के लिए तैयार नहीं हुए। उनके धरने पर बैठने की जानकारी होने के बाद कई जनपदों से समर्थक तहसील पहुंचते रहे।

बृहस्पतिवार सुबह वह स्नान और पूजा करने के लिए भदरी किला गए। इसकी जानकारी होने के बाद पुलिस प्रशासन सक्रिय हुआ, लेकिन तब तक वह फिर धरनास्थल पर पहुंच गए। इसके चलते प्रशासन चूक गया। तीसरे दिन शुक्रवार को पुलिस प्रशासन ने पहले से ही तैयारी कर रखी थी। सुबह धरनास्थल से उनके निकलते ही पुलिस अलर्ट हो गई। उनके किला में जाते ही सीओ ने गेट पर नोटिस चस्पा करवा दिया। इसके साथ ही सभी दरवाजों पर फोर्स तैनात कर दी गई। उन्हें जिले में कहीं भी भ्रमण नहीं करने के लिए कहा गया है। 

मजिस्ट्रेट ने लिखा- दंगा, बलवा होने की आशंका
भदरी किले के दरवाजे पर चिपकाए गए नोटिस में उपजिला मजिस्ट्रेट ने कोतवाली कुंडा के निरीक्षक की रिपोर्ट का उल्लेख करते हुए बताया है कि उदय प्रताप सिंह द्वारा अपने कुछ साथियों के साथ कुंडा के शेखपुर में लगे अलम आदि को हटाने का प्रयास किया जा सकता है। दो दिनों से धरना दिया जा रहा है। यदि उनकी गतिविधियों को प्रतिबंधित नहीं किया गया तो सांप्रदायिक सौहार्द्र बिगड़ने के साथ बलवा और दंगा होने की आशंका है। इसके साथ ही यदि इस पक्ष को सुनवाई का अवसर दिया गया तो शांति व्यवस्था का संकट खड़ा होगा। इसलिए उदय प्रताप सिंह को पांच से सात अगस्त शाम पांच बजे तक आवासीय परिसर से बाहर जाने की अनुमति नहीं है। वह जनपद में कहीं भी भ्रमण नहीं करेंगे।

विस्तार

कुंडा इलाके के शेेखपुर आशिक गांव में बना मोहर्रम का गेट हटाने को लेकर तीन दिन से तहसील में धरने पर बैठे पूर्व मंत्री और विधायक राजाभैया के पिता उदय प्रताप सिंह को शुक्रवार को प्रशासन ने घर में नजरबंद कर दिया। वह सुबह स्नान और पूजापाठ के लिए धरनास्थल से भदरी कोठी गए। तभी प्रशासन ने घेराबंदी कर ली। 

शेखपुर में लगे गेट को हटवाने के लिए भदरी किला निवासी उदय प्रताप सिंह बुधवार सुबह करीब दस बजे कुंडा तहसील में धरने पर बैठ गए थे। प्रशासनिक और पुलिस अफसरों ने उन्हें समझाकर धरना समाप्त कराने का प्रयास किया। रात में डीएम-एसपी भी उनके पास पहुंचे और साथ बैठकर खाना खाया। इसके बाद भी उदय प्रताप धरने से उठने के लिए तैयार नहीं हुए। उनके धरने पर बैठने की जानकारी होने के बाद कई जनपदों से समर्थक तहसील पहुंचते रहे।

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published.