पाकिस्तान: इमरान बोले- 30 साल जिन्होंने देश को लूटा, मुशर्रफ ने उन्हें बचाकर पूरी कौम पर जुल्म किया, पर मैं किसी को माफ नहीं करुंगा

वर्ल्ड डेस्क, अमर उजाला, इस्लामाबाद
Published by: कीर्तिवर्धन मिश्र
Updated Sun, 27 Mar 2022 08:30 PM IST


सार

खान के हजारों समर्थक ट्रेनों, सार्वजनिक वाहनों और निजी कारों से सत्तारूढ़ दल की ऐतिहासिक रैली में शामिल होने पहुंचे हैं। खान की पार्टी का कारवां कराची, लाहौर, पेशावर और अन्य शहरों से पहुंचा है और रैली में शामिल होने के लिए यह परेड ग्राउंड पहुंचा।

पाकिस्तान के पीएम इमरान खान।
– फोटो : Amar Ujala

ख़बर सुनें

विस्तार

अविश्वास प्रस्ताव पर मतदान से पहले पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान इस्लामाबाद में एक विशाल रैली में शामिल हुए। यहां उन्होंने विपक्ष पर जबरदस्त हमले बोले। इमरान ने रैली में साफ कर दिया कि वे इस्तीफा नहीं देंगे।, उन्होंने कहा, “हम जब पांच साल मुकम्मल करेंगे तब पूरा देश देखेगा कि किसी सरकार ने पाकिस्तान को इतनी तेजी से नहीं बढ़ाया। मैं विकास के लिए सियासत में आया। यह पाकिस्तान एक नजरिए से बना है, लेकिन यहां लोगों को खरीदने की कोशिश हो रही है।”

विपक्ष पर जबरदस्त हमले बोले

इमरान खान ने इशारों में बिलावल भुट्टो, मरियम नवाज और मौलाना फजल-उर-रहमान पर निशाना साधते हुए कहा, “ये तीन चूहे तीस साल से मिलकर देश का खून चूस रहे हैं। इनकी प्रॉपर्टी रुपये की नहीं डॉलर की है। ये सारा ड्रामा हो रहा है कि किसी तरह जनरल मुशर्रफ की तरफ इमरान खान इन सबको एनआरओ दे दे। पहले दिन से ब्लैकमेल करने की कोशिश है। जब मौका मिलता है हुकूमत को गिराने की कोशिश करते हैं। जनरल मुशर्रफ ने जो इस कौम पर जुल्म किया। अपनी कुर्सी बचाने के लिए उसने इस मुल्क के चोरों को एनआरओ दिया। आज जो हम बोझ उठा रहे हैं, हम जो इनके कर्जों की किस्तें अदा कर रहे हैं, वो सिर्फ मुशर्रफ के कामों की वजह से। इमरान खान की हुकूमत जाती है जाए, जान जाती है जाए, लेकिन इमरान खान इन्हें कभी माफ नहीं करेगा। ”

इस रैली में रविवार को हजारों की संख्या में लोग जुटे। इमरान सरकार ने विभिन्न शहरों से उनके समर्थकों के यहां पहुंचने के लिए विशेष ट्रेनों का इंतजाम किया है। इस रैली को अविश्वास प्रस्ताव पेश होने से पहले इमरान का शक्ति प्रदर्शन कहा जा रहा है। इमरान खान सरकार द्वारा अपनी पार्टी के कार्यकर्ताओं को लाहौर और अन्य शहरों से लाने के लिए पाकिस्तान रेलवे से विशेष ट्रेनें चलाने का अनुरोध किया गया है। खान के हजारों समर्थक ट्रेनों, सार्वजनिक वाहनों और निजी कारों से सत्तारूढ़ दल की ऐतिहासिक रैली में शामिल होने पहुंचे हैं। खान की पार्टी का कारवां कराची, लाहौर, पेशावर और अन्य शहरों से पहुंचा है और रैली में शामिल होने के लिए यह परेड ग्राउंड पहुंचा।

गौरतलब है कि इमरान खान एक गठबंधन सरकार का नेतृत्व कर रहे हैं। खान के सहयोगी दल उनसे किनारा कर रहे हैं जबकि उनकी पार्टी के करीब दो दर्जन सांसद उनके खिलाफ बगावत कर रहे हैं। खान (69) की पार्टी के 342 सदस्यीय नेशनल असेंबली में 155 सदस्य हैं और सरकार में बने रहने के लिए कम से कम 172 सांसदों के समर्थन की जरूरत होगी।

विपक्ष ने भी कसी है कमर

इससे अलग, सोमवार को इस्लामाबाद में विपक्षी दलों का गठबंधन, पाकिस्तान डेमाक्रेटिक मूवमेंट (पीडीएम)भी एक राजनीतिक कार्यक्रम करने वाला है। पीडीएम में जमियत ए इस्लाम फज्ल और पाकिस्तान मुस्लिम लीग-नवाज शामिल हैं। पीडीएम ने एक दिन बाद अपना शक्ति प्रदर्शन करने का निर्णय किया है जो नेशनल असेंबली के सत्र के साथ-साथ होगा, जब सदन में औपचारिक रूप से अविश्वास प्रस्ताव लाया जाने वाला है।
वहीं, पीएमएल-एन उपाध्यक्ष मरियम नवाज और उनकी करीबी रिश्तेदार हमजा शहबाज (शहबाज शरीफ की बेटी) के नेतृतव में शनिवार को लाहौर से एक अन्य बड़ा विरोध मार्च शुरू किया गया। विपक्षी रैली में शामिल होने के लिए जीटी रोड होते हुए इसके सोमवार को इस्लामाबाद पहुंचने का कार्यक्रम है। मरियम ने अपने समर्थकों से कहा, ‘‘यह (मार्च) इमरान खान नीत सरकार के ताबूत में आखिरी कील साबित होगा।’’

Source link

Leave a Reply