दिल्ली विश्वविद्यालय: यूजी, पीजी में दाखिले के लिए आज से पंजीकरण, कुलपति ने जारी की शैक्षणिक सत्र 2022-23 की दाखिला नीति

दिल्ली विश्वविद्यालय में शैक्षणिक सत्र 2022-23 में स्नातक और स्नातकोत्तर कोर्सेज में दाखिले कॉमन यूनिवर्सिटी एंट्रेस टेस्ट (सीयूईटी) से होंगे। इसके लिए बुधवार से पंजीकरण प्रक्रिया शुरू होने जा रही है। प्रवेश परीक्षा में बारहवीं पास छात्र अपना पंजीकरण करा सकते हैं।  डीयू के एसओएल व एनसीवेब को छोड़कर सभी स्नातक कोर्सेज में दाखिला सीयूईटी 2022 के माध्यम से ही होगा।

डीयू में मंगलवार को कुलपति प्रो. योगेश सिंह ने प्रेस वार्ता में शैक्षणिक सत्र 2022-23 में प्रवेश के लिए दाखिला नीति जारी की। उन्होंने इस पॉलिसी को लैंडमार्क बताया। प्रो. सिंह ने कहा कि डीयू में स्नातक कोर्सेज में दाखिले के लिए सभी उम्मीदवारों को सीयूईटी 2022 में उपस्थित होना अनिवार्य है।

स्नातक कोर्सेज में प्रवेश को लेकर जानकारी देते हुए उन्होंने कहा कि विद्यार्थी सीयूईटी में केवल उन्हीं विषयों में उपस्थित हो सकेंगे जो बारहवीं में पढ़े हों। योग्यता की गणना भी केवल उन्हीं विषयों के कंबीनेशन के आधार पर की जाएगी जिसमें उम्मीदवार ने सीयूई टेस्ट दिया होगा। स्ट्रीम बदलने पर किसी छात्र को नुकसान नहीं होगा। इस अवसर पर डीयू के कुल सचिव डॉ. विकास गुप्ता, डीन एडमिशन प्रो. हनीत गांधी, डीन स्टूडेंट वेलफेयर प्रो. पंकज अरोड़ा उपस्थित थे।

33 में से किसी एक भाषा में उपस्थिति जरूरी
सीयूईटी 2022 के तीन सेक्शन हैं। पहले सेक्शन को दो हिस्सों में बांटा गया है। पहले भाग में 13 और दूसरे में 20 भाषाएं शामिल हैं। विद्यार्थियों को इन 33 भाषाओं में से कम से कम एक भाषा में उपस्थित होना अनिवार्य है। दूसरे सेक्शन में 27 मुख्य विषय हैं। तीसरा सेक्शन सामान्य ज्ञान पार आधारित है जो केवल बीए प्रोग्राम के दाखिलों के लिए ही होगा। कुलपति ने बताया कि अधिकतर स्नातक कोर्सेज में दाखिले के लिए छात्रों को दूसरे हिस्से में से कम से कम तीन विषयों का चयन करना होगा। दूसरे सेक्शन को दो सूचियों बी1 और बी2 के रूप में बांटा गया है। छात्रों को विषय का चयन इस तरह से करना होगा जिससे कि एक बार में एक से अधिक विषय का चयन ना हो।

अधिकतम 6 विषयों में सीयूईटी दे सकते हैं
अधिकांश बीएससी प्रोग्रामों में प्रवेश के लिए योग्यता की गणना भौतिकी, रसायन विज्ञान, गणित या जीव विज्ञान के आधार पर की जाएगी। बीएससी प्रोग्राम के लिए सीयूईटी में किसी एक भाषा में कम से कम 30 फीसदी अंक प्राप्त करना अनिवार्य है। बीए आर्ट में दाखिले लिए टेस्ट में पहले सेक्शन में से किसी एक भाषा और दूसरे सेक्शन से किन्हीं तीन विषयों में उपस्थित होना होगा। मेरिट इन्हीं विषयों और भाषा में प्राप्त किए गए अंकों के आधार पर की जाएगी।  कुलपति ने बताया कि बीए ऑनर्स अर्थशास्त्र में दाखिले के लिए उम्मीदवारों को सीयूईटी के लिए गणित में टेस्ट देना अनिवार्य है। इसके लिए मेरिट की गणना चयन की गई भाषा, गणित और किन्हीं दो विषयों में प्राप्त किए गए अंकों के आधार पर की जाएगी। हालांकि उम्मीदवार अधिकतम 6 विषयों में सीयूईटी का टेस्ट दे सकता हैए जिनमें से एक भाषा विषय होना जरूरी है।

अल्पसंख्यक कॉलेजों में गैर आरक्षित सीटों पर दाखिले सीयूईटी से
डीयू से संबद्ध सेंट स्टीफंस और जीसस एंड मैरी जैसे कॉलेज में गैर आरक्षित सीटों पर दाखिले पूरी तरह से सीयूईटी से होंगे। कालेजों में जिन 50 फीसदी सीटों को आरक्षित रखा गया है उनमें दाखिले के लिए 85 फीसदी स्कोर सीयूईटी से लिया जाएगा और बाकी 15 फीसदी कॉलेजों    की तरफ से साक्षात्कार से तय होगा।

स्नातकोत्तर पाठ्यक्रम में दाखिले डीयूईटी से
दिल्ली विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो. योगेश सिंह ने बताया कि पीजी कोर्सेज में दाखिले बीते साल की तरह डीयूईटी (दिल्ली यूनिवर्सिटी एंट्रेस टेस्ट) के माध्यम से ही होंगे।  इसके लिए उम्मीदवारों को डीयू दाखिला पोर्टल पर पंजीकरण करना होगा। पंजीकरण प्रक्रिया 6 अप्रैल से 15 मई तक चलेगी। डीयूईटी का आयोजन नेशनल टेस्टिंग एजेंसी की ओर से किया जाएगा।

स्पोर्ट्स, ईसीए श्रेणी में दाखिले के लिए प्रवेश के साथ परफॉर्मेंस टेस्ट जरूरी
दिल्ली विश्वविद्यालय में शैक्षणिक सत्र 2022-23 के स्पोर्ट्स और ईसीए श्रेणी के दाखिले के लिए विद्यार्थियों को कॉमन यूनिवर्सिटी एंट्रेस टेस्ट (सीयूईटी) के साथ परफॉर्मेंस टेस्ट भी देना होगा। 75 फीसदी परफॉर्मेस स्कोर और 25 फीसदी सीयूईटी के स्कोर के आधार पर मेरिट तैयार की जाएगी। इस बार ईसीए व स्पोर्ट्स कोटे में दाखिले के लिए ट्रायल की वापसी भी हो रही है। दो साल से कोरोना महामारी के कारण ट्रायल नहीं हो रहे थे। केवल सर्टिफिकेट के आधार पर ही छात्रों का दाखिला लिया जा रहा था। उधर, दिल्ली विश्वविद्यालय में बैचलर ऑफ मैनेजमेंट स्टडीज (बीएमएस), बैचलर ऑफ बिजनेस एडमिनिस्ट्रेशन, बीबीए-एफआईए, बीए (ऑनर्स) बिजनेस इकनॉमिक्स(बीबीई) में दाखिले भी सीयूईटी के माध्यम से ही होंगे।

कॉमन यूनिवर्सिटी एंट्रेस एग्जाम जुलाई में संभव, एनटीए की वेबसाइट पर मिलेगा आवेदन पत्र
स्नातक प्रोग्राम में दाखिले के लिए कंप्यूटर आधारित सीयूईटी 13 भाषाओं में जुलाई के पहले या दूसरे हफ्ते में होगा। एनटीए के  वरिष्ठ अधिकारी के मुताबिक सीयूईटी में पूछे जाने वाले सभी प्रश्न 12वीं बोर्ड परीक्षा के पाठ्यक्रम पर ही आधारित होंगे।

इस साल 12वीं कक्षा में पढ़ाई कर रहे और यदि कोई यूनिवर्सिटी पिछले साल 12वीं बोर्ड परीक्षा पास करने वाले छात्रों को 2022 में दाखिले की अनुमति देती होगी तो वे भी इस सीयूईटी में शामिल हो सकते हैं।

सीयूईटी हिंदी, अंग्रेजी के अलावा कुल 13 भारतीय भाषाओं में आयोजित होगी। छात्र अपनी मनपसंद भाषा चुन सकता है। इसमें मराठी, गुजराती, तमिल, तेलगू, कन्नड़, मलयालम, उर्दू, असमी, बांग्ला, उड़िया, पंजाबी, हिंदी समेत अंग्रेजी होगी। सीयूईटी में अनिवार्य पेपर की परीक्षा इन्हीं भारतीय भाषाओं में से किसी एक में देनी होगी। पहला पेपर सवा तीन घंटे का और दो तीन घंटे 45 मिनट का रहेगा।

सीयूईटी के तीन सेक्शन होंगे।  सेक्शन ए यानी हिंदी, अंग्रेजी समेत 13 भारतीय भाषा पर आधारित पेपर होगा।यह सभी छात्रों के लिए अनिवार्य रहेगा। इस सेक्शन में 50 सवाल होंगे, जिसमें से 45 मिनट में 40 का जवाब देना होगा। सेक्शन 1 बी विदेशी भाषा या फिर लिटरेचर की पढ़ाई करने वाले छात्रों के लिए ऑप्शनल रहेगा।

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published.