चीन के बाद अब किम जोंग भी नैंसी पेलोसी के विरोध में, अमेरिका के लिए कही ये बड़ी बात


Image Source : INDIA TV
Nancy Pelosi

Highlights

  • चीन के बाद अब किम जोंग भी नैंसी पेलोसी के विरोध में
  • अमेरिका के लिए कही ये बड़ी बात
  • ताइवान यात्रा के दौरान चीन भी था नाराज

Nancy Pelosi: अमेरिकी संसद की प्रतिनिधि सभा की अध्यक्ष नैंसी पेलोसी ने जब ताइवान की यात्रा की तो चीन उनसे खफा रहा। अब जब नैंसी पेलोसी दक्षिण कोरिया के दौरे पर हैं तो उत्तर कोरिया का तानाशाह किम जोंग उन उनसे नाराज़ है। उत्तर कोरिया ने तो बकायदा अमेरिका को कड़े शब्दों में संदेश भी दे दिया है कि वह इसका जवाब देगा।

दरअसल, उत्तर कोरिया ने शनिवार को अमेरिकी सदन की स्पीकर नैंसी पेलोसी की पनमुनजोम के एक गांव की यात्रा की निंदा की जो अंतर-कोरियाई संघर्ष विराम क्षेत्र में आता है। योनहॉप न्यूज की रिपोर्ट के अनुसार, एक बयान में, उत्तर कोरिया के विदेश मंत्रालय के प्रेस और सूचना विभाग के महानिदेशक जो योंग-सैम ने एक बयान में पेलोसी की इस बात के लिए आलोचना की कि वो दक्षिण कोरिया की अपनी यात्रा के दौरान उत्तर कोरिया के खिलाफ माहौल बना रही हैं।

दो दिवसीय दौरे पर आई हैं पेलोसी

ताइवान की यात्रा के बाद वह बुधवार से यहां दो दिवसीय दौरे पर आई हैं। उन्होंने नेशनल असेंबली के स्पीकर किम जिन-प्यो के साथ बातचीत की और राष्ट्रपति यूं सुक-योल से फोन पर बात की। इसके बाद पेलोसी ने विसैन्यीकृत क्षेत्र (डीएमजेड) के अंदर पनमुनजोम के संयुक्त सुरक्षा क्षेत्र का दौरा किया। उत्तर कोरिया के अधिकारी ने प्योंगयांग द्वारा संचालित कोरियन सेंट्रल न्यूज एजेंसी को दिए गए बयान में कहा, यह “डीपीआरके के प्रति वर्तमान अमेरिकी प्रशासन की शत्रुतापूर्ण नीति” को प्रदर्शित करता है।

जो ने कहा, पेलोसी “अंतरराष्ट्रीय शांति और स्थिरता के लिए सबसे खराब हैं” और कहा कि अप्रैल में यूक्रेन की अपनी यात्रा के दौरान रूस के साथ टकराव के माहौल को उकसाया था, और ताइवान के अपने हालिया दौरे से चीन को क्रोधित किया। उन्होंने चेतावनी दी कि “उनके लिए यह सोचना एक घातक गलती होगी कि वह कोरियाई प्रायद्वीप में बच के चली जाएंगी। वह जहां भी गईं, उनके द्वारा पैदा की गई परेशानी के लिए अमेरिका को भुगतना पड़ेगा।”

चीन ने तो दाग दी थीं मिसाइलें

ताइवान पर अपना दावा जताने वाले चीन ने पेलोसी की यात्रा को उकसावे की कार्रवाई बताया था और कहा था कि इसके गंभीर नतीजे भुगतने होंगे। चीन ने ताइवान को धमकाने के मकसद से गुरुवार को उसको चारों तरफ से घेरकर सैन्य अभ्यास शुरू कर दिया था और मिसाइलें भी दागी थीं। बता दें कि चीन पहले ही कह चुका है कि अगर जरूरत पड़ी तो वह ताइवान पर हमला करके उसपर कब्जा कर लेगा। कई विशेषज्ञों का मानना है कि हमला करने की सूरत में पेलोसी की ताइवान यात्रा को एक बहाने के रूप में इस्तेमाल कर सकता है।

Latest World News





Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published.