खुशी ढूंढ रहे हैं तो खूब खाएं फल-सब्जियां, जमकर करें एक्सरसाइज

अच्छी सेहत में बैलेंस डाइट और एक्सरसाइज की अहम भूमिका होती है. हेल्दी लाइफस्टाइल से न सिर्फ बीमारियों से दूर रहा जा सकता है, बल्कि जीवन में खुशी यानी हैप्पीनेस के लेवल को भी बढ़ाया जा सकता है. दैनिक जागरण में छपी एक रिपोर्ट के मुताबिक, एक स्टडी में ये बात साबित हुई है. इस स्टडी के अनुसार, फलों और सब्जियों के सेवन के साथ एक्सरसाइज करने से खुशी के स्तर को बढ़ाया जा सकता है. इसके आधार पर यह कहा जा सकता है कि अगर खुश रहना चाहते हैं, तो फल और सब्जियां खूब खाएं और जमकर करें एक्सरसाइज.

जर्नल आफ हैप्पीनेस स्टडीज (Journal of Happiness Studies) में इस स्टडी के नतीजों को प्रकाशित किया गया है. रिपोर्ट में लिखा है कि पूर्व के अध्ययनों से भी लाइफस्टाइल और फिटनेस के बीच जुड़ाव की बात सामने आ चुकी है, इसलिए पब्लिक हेल्थ को लेकर चलने वाले अभियानों में पौष्टिक आहारों (nutritious foods) और एक्सरसाइज पर जोर दिया जाता है. नई स्टडी में संतुलित जीवनशैली से खुशी बढ़ने की बात सामने आई है.

कई हेल्थ प्रॉब्लम से बचा जा सकता है
अखबार ने आगे लिखा है, यह अपनी तरह का पहली स्टडी है, जिसमें फलों व सब्जियों के सेवन और एक्सरसाइज के बीच जुड़ाव पर गौर किया गया है.

यह भी पढ़ें- कम फिजिकल एक्टिविटी के कारण बढ़ सकता है स्ट्रोक का रिस्क- रिसर्च

ब्रिटेन की केंट यूनिवर्सिटी (University of Kent) और रीडिंग यूनिवर्सिटी (University of Reading) के रिसर्चर्स ने यह स्टडी की है. स्टडी से यह बात भी सामने आई है कि पुरुष ज्यादा एक्सरसाइज करते हैं और महिलाएं अधिक फल और सब्जियां खाती हैं. रिसर्च करने वालों का कहना है कि इस तरह के खानपान को अपनाने के साथ नियमित रूप से एक्सरसाइज करने से कई समस्याओं से बचा जा सकता है.

यह भी पढ़ें- कहीं तनाव तो नहीं बन रहा आपकी स्किन का दुश्‍मन? खूबसूरत रहना है तो चिंता से रहें दूर

नतीजों में क्या निकाला
स्टडी का निष्कर्ष बताता है कि सेल्फ कंट्रोल (आत्म-नियंत्रण) की क्षमता लाइफस्टाइल के निर्णयों को प्रभावित करने में एक प्रमुख भूमिका निभाती है. इनका शरीर पर सकारात्मक प्रभाव पड़ता है. यह बात हर कोई जानता है कि लाइफस्टाइल से जुड़ी बीमारियां दुनियाभर में खराब हेल्थ और मृत्यु दर का एक प्रमुख कारण हैं. यूरोप में ब्रिटेन में सबसे अधिक मोटापा दर है. इन निष्कर्षों का सार्वजनिक स्वास्थ्य नीति के लिए महत्वपूर्ण प्रभाव हो सकता है.

Tags: Health, Health News, Lifestyle

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published.