खाने की थाली में क्यों नहीं रखते एक साथ 3 रोटियां? जानें धार्मिक और वैज्ञानिक कारण

 Why you should not keep 3 chapatis: हिंदू धर्म (Hinduism) में कई सारी मान्यताएं प्रचलित हैं. जिनके पीछे कोई ना कोई वैज्ञानिक कारण (Scientific Reasons) जरूर होता है. कई लोग ऐसे होते हैं जिन्हें इसके पीछे के कारण नहीं पता होते हैं लेकिन उनका पालन जरूर करते हैं. बहुत से लोग प्राचीन मान्यताओं को नहीं मानते, लेकिन बहुत सारे लोग ऐसे भी हैं जो इनको मानते भी हैं और इनका पालन भी करते. हिंदू धर्म में त्रिदेव यानी ब्रह्मा, विष्णु और महेश को ही सृष्टि का सृजन करने वाला, पालनहार और संहारक बताया गया है. इस लिहाज से देखा जाए तो 3 अंक शुभ होना चाहिए लेकिन पूजा पाठ में 3 अंक को अशुभ माना जाता है.

कोई भी सामान पूजा-पाठ में तीन की संख्या में नहीं लिया जाता. 3 अंक को ना सिर्फ पूजा पाठ में अशुभ माना जाता है, बल्कि खाने की थाली में 3 रोटियां रखना भी अशुभ माना जाता है. अगर कोई व्यक्ति खाने की थाली में एक साथ 3 रोटियां रखता है तो घर के बड़े-बुजुर्ग उनको मना कर देते हैं. यह तो बात हुई घर की लेकिन आपने बाहर खाना खाते समय भी इस बात को नोट किया होगा कि एक साथ 3 रोटियां नहीं सर्व की जाती. आज की कड़ी में हम जानेंगे कि आखिर क्यों खाने की थाली में एक साथ तीन रोटियां को रखना अशुभ माना जाता है. इसके पीछे क्या है धार्मिक और वैज्ञानिक कारण.

मान्यताओं के अनुसार
हिंदू धर्म में मान्यताओं के अनुसार थाली में 3 रोटियां रखना मृतक के भोजन के समान माना जाता है. क्योंकि जब किसी व्यक्ति की मृत्यु हो जाती है तो उसके त्रयोदशी संस्कार से पहले भोजन की थाली में एक साथ 3 रोटियां रखने का चलन है. यह थाली मृतक को समर्पित की जाती है. इसे सिर्फ परोसने वाला ही देख सकता है. इसके अलावा कोई और नहीं.

यह भी पढ़ें – रविवार को करें ज्योतिष शास्त्र के ये उपाय, बनी रहेगी सुख-समृद्धि

एक अन्य मान्यता के अनुसार अगर कोई व्यक्ति थाली में एक साथ तीन रोटी रखकर खाता है तो उसके मन में दूसरों के प्रति शत्रुता का भाव उत्पन्न होता है. यही कारण है कि थाली में एक साथ तीन रोटी रखने के लिए मना किया जाता है.

यह भी पढ़ें – Shanidev Puja: जानें शनि देव क्यों डरते हैं हनुमान जी से?

वैज्ञानिक दृष्टिकोण
थाली में तीन रोटी रखने को लेकर स्वास्थ्य विशेषज्ञों की राय है कि सामान्य व्यक्ति को दिन भर में थोड़ा-थोड़ा कर भोजन ग्रहण करना चाहिए. एक साथ नहीं खाना चाहिए. एक सामान्य व्यक्ति के लिए उसकी थाली में एक कटोरी दाल, एक कटोरी सब्जी, 50 ग्राम चावल और दो रोटी पर्याप्त होती हैं. इस डाइट को एक आदर्श डाइट माना जाता है. दो रोटी से एक व्यक्ति को 1200 से 1400 कैलोरी ऊर्जा मिलती है. यदि इससे ज्यादा भोजन किया जाए तो व्यक्ति को स्वास्थ्य संबंधी समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है. (Disclaimer: इस लेख में दी गई जानकारियां और सूचनाएं सामान्य मान्यताओं पर आधारित हैं. Hindi news18 इनकी पुष्टि नहीं करता है. इन पर अमल करने से पहले संबंधित विशेषज्ञ से संपर्क करें)

Tags: Dharma Aastha, Religion

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published.