क्या है इर्रिटेबल बाउल सिंड्रोम? नजर आएं ये 12 लक्षण, तो जल्द जाएं डॉक्टर के पास

क्या आपको बार-बार पेट में दर्द रहता है, कभी दस्त, कभी कब्ज, तो कभी ब्लोटिंग की समस्या से परेशान रहते हैं, तो हो सकता है आप इर्रिटेबल बाउल सिंड्रोम (Irritable bowel syndrome) से ग्रस्त हों. इर्रिटेबल बाउल सिंड्रोम एक तरह का गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल डिसऑर्डर है, जो हर दिन के कार्यों को भी प्रभावित कर सकता है. काफी लोग बड़ी आंतों में होने वाली इस समस्या से ग्रस्त होते रहते हैं. हालांकि, इसके लक्षणों को सही समय पर पहचानकर उपचार शुरू कर दिया जाए, तो इस समस्या से जल्दी छुटकारा पा सकते हैं.

इर्रिटेबल बाउल सिंड्रोम के लक्षण
मायोक्लिनिक में छपी एक रिपोर्ट के अनुसार, इर्रिटेबल बाउल सिंड्रोम (IBS) होने पर आपको निम्न लक्षण नजर आ सकते हैं-

  • पेट में ऐंठन और दर्द
  • सूजन, गैस
  • दस्त या कब्ज की समस्या
  • मल में बलगम
  • कमर दर्द
  • जी मिचलाना
  • ऊर्जा में कमी
  • पेशाब संबंधित समस्या
  • पेट फूलना
    लगातार ये लक्षण बने रहें, तो व्यक्ति का मूड भी प्रभावित होता है. कई बार इर्रिटेबल बाउल सिंड्रोम से ग्रस्त व्यक्ति एंग्जायटी, डिप्रेशन से भी ग्रस्त हो जाता है. हालांकि, बहुत कम ही लोगों में गंभीर लक्षण नजर आते हैं.

इसे भी पढ़ें: भोजन करने के तुरंत बाद होने लगता है पेट में दर्द, हो सकते हैं ये कारण जिम्मेदार

इर्रिटेबल बाउल सिंड्रोम के कारण
इर्रिटेबल बाउल सिंड्रोम होने के कई कारण हो सकते हैं जैसे आंतों में मांसपेशियों में संकुचन होना, पाचन तंत्र की नसों में असामान्यताएं होने के कारण, कई बार आंतों में गंभीर रूप से किसी तरह के इंफेक्शन या आंतों में बैक्टीरिया के अधिक बढ़ने से भी इर्रिटेबल बाउल सिंड्रोम हो सकता है. कई बार बचपन में किसी तनावपूर्ण घटनाओं के संपर्क में आने से भी आईबीएस के लक्षण नजर आ सकते हैं. बैक्टीरिया, फंगी, वायरस जो आमतौर पर आंतों में रहते हैं और स्वस्थ रहने के लिए महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं, इनमें परिवर्तन होने के कारण भी इर्रिटेबल बाउल सिंड्रोम की समस्या काफी हद तक हो सकती है.

इसे भी पढ़ें: Irritable Bowel Syndrome: जानिए क्‍या है इरिटेबल बाउल सिंड्रोम, कैसे मिलेगी इस दर्द से राहत

डॉक्टर से कब करें संपर्क
यदि आपको इर्रिटेबल बाउल सिंड्रोम के कारण निम्न समस्याएं नजर आएं, तो डॉक्टर के पास जरूर जाएं-

  • वजन कम होना
  • रात में डायरिया होना
  • मलाशय से रक्तस्राव
  • आयरन की कमी, एनीमिया
  • निगलने में परेशानी महसूस करना
  • बिना कारण के उल्टी होना
  • मल त्याग करने या गैस पास करने के बाद भी लगातार पेट में दर्द होना

Tags: Health, Health tips, Lifestyle

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published.