किरण मजूमदार: धार्मिक विभाजन वाले ट्वीट पर बवाल के बाद बोलीं- कन्नड़ होने पर गर्व है, सीएम का शुक्रिया

न्यूज डेस्क, अमर उजाला, बेंगलुरू
Published by: प्रांजुल श्रीवास्तव
Updated Fri, 01 Apr 2022 10:09 AM IST


सार

मजूमदार ने लिखा कि, दुर्भाग्य से निजी स्वार्थ के लिए कुछ राजनीतिक दल इस मुद्दे को भुनाने की कोशिश कर रहे हैं। मुझे विश्वास है कि हमारे सीएम बसवराज बोम्मई इस मुद्दे को सुलझा लेंगे।

ख़बर सुनें

देश की सबसे बड़ी दवा उत्पादक कंपनी बायोकॉन की प्रमुख किरण मजूमदार शॉ के सांप्रदायिक विभाजन वाले ट्वीट पर हंगामा खड़ा हो गया है। इसके बाद मजूमदार ने एक और ट्वीट किया है। उन्होंने कहा कि, यह राजनीतिक लाभ के लिए नहीं है। एक कन्नड़ होने पर मुझे गर्व है और यह विश्वास है कि मुख्यमंत्री बसवराज बोम्मई इस मामले को शांति से सुलझा लेंगे। 

मजूमदार ने लिखा कि, दुर्भाग्य से निजी स्वार्थ के लिए कुछ राजनीतिक दल इस मुद्दे को भुनाने की कोशिश कर रहे हैं। मुझे विश्वास है कि हमारे सीएम बसवराज बोम्मई इस मुद्दे को सुलझा लेंगे। उन्होंने एक और ट्वीट में कहा कि मैं अपने सीएम की सराहना करती हूं। और समाज के सभी वर्गों को सामाजिक मुद्दों पर सार्वजनिक होने से पहले संयम बरतने का आह्वान करने के लिए उनके साथ तहे दिल से सहमत हूं, क्योंकि ऐसे मसलों को चर्चा के माध्यम से हल किया जा सकता है।

किरण मजूमदार शॉ के ट्वीट पर क्या है विवाद?
दरअसल, कर्नाटक में मंदिरों के आसपास मुस्लिम दुकानदारों को स्टाल लगाने से रोक दिया गया है। इस मुद्दे पर किरण मजूमदार ने एक ट्वीट कर कर्नाटक के सीएम बसवराज बोम्मई को टैग किया था। उन्होंने इस ट्वीट में राज्य में बढ़ते धार्मिक विभाजन को हल करने की अपील की थी। कहा था कि कर्नाटक हमेशा से समावेशी विकास का आधार रहा है। इस तरह के सांप्रदायिक तत्वों को अनुमति नहीं दी जानी चाहिए। नहीं तो इस सांप्रदायिकता से देश तबाह हो जाएगा। 

ट्वीट के बाद शुरू हो गया था हंगामा
मजूमदार के ट्वीट के बाद हंगामा शुरू हो गया। भाजपा के अमित मालवीय ने कहा कि, उनका बयान का राजनीति से प्रेरित है। यह दुर्भाग्यपूर्ण है कि किरण शॉ जैसे लोग अपनी व्यक्तिगत, राजनीतिक रूप से अपनी राय थोपते हैं। दरअसल, विश्व हिंदू परिषद (विहिप) और बजरंग दल जैसे संगठनों ने मंदिर परिसरों में मुस्लिम व्यापारियों के स्टॉल लगाने पर प्रतिबंध की मांग की है। 

विस्तार

देश की सबसे बड़ी दवा उत्पादक कंपनी बायोकॉन की प्रमुख किरण मजूमदार शॉ के सांप्रदायिक विभाजन वाले ट्वीट पर हंगामा खड़ा हो गया है। इसके बाद मजूमदार ने एक और ट्वीट किया है। उन्होंने कहा कि, यह राजनीतिक लाभ के लिए नहीं है। एक कन्नड़ होने पर मुझे गर्व है और यह विश्वास है कि मुख्यमंत्री बसवराज बोम्मई इस मामले को शांति से सुलझा लेंगे। 

मजूमदार ने लिखा कि, दुर्भाग्य से निजी स्वार्थ के लिए कुछ राजनीतिक दल इस मुद्दे को भुनाने की कोशिश कर रहे हैं। मुझे विश्वास है कि हमारे सीएम बसवराज बोम्मई इस मुद्दे को सुलझा लेंगे। उन्होंने एक और ट्वीट में कहा कि मैं अपने सीएम की सराहना करती हूं। और समाज के सभी वर्गों को सामाजिक मुद्दों पर सार्वजनिक होने से पहले संयम बरतने का आह्वान करने के लिए उनके साथ तहे दिल से सहमत हूं, क्योंकि ऐसे मसलों को चर्चा के माध्यम से हल किया जा सकता है।

किरण मजूमदार शॉ के ट्वीट पर क्या है विवाद?

दरअसल, कर्नाटक में मंदिरों के आसपास मुस्लिम दुकानदारों को स्टाल लगाने से रोक दिया गया है। इस मुद्दे पर किरण मजूमदार ने एक ट्वीट कर कर्नाटक के सीएम बसवराज बोम्मई को टैग किया था। उन्होंने इस ट्वीट में राज्य में बढ़ते धार्मिक विभाजन को हल करने की अपील की थी। कहा था कि कर्नाटक हमेशा से समावेशी विकास का आधार रहा है। इस तरह के सांप्रदायिक तत्वों को अनुमति नहीं दी जानी चाहिए। नहीं तो इस सांप्रदायिकता से देश तबाह हो जाएगा।

ट्वीट के बाद शुरू हो गया था हंगामा

मजूमदार के ट्वीट के बाद हंगामा शुरू हो गया। भाजपा के अमित मालवीय ने कहा कि, उनका बयान का राजनीति से प्रेरित है। यह दुर्भाग्यपूर्ण है कि किरण शॉ जैसे लोग अपनी व्यक्तिगत, राजनीतिक रूप से अपनी राय थोपते हैं। दरअसल, विश्व हिंदू परिषद (विहिप) और बजरंग दल जैसे संगठनों ने मंदिर परिसरों में मुस्लिम व्यापारियों के स्टॉल लगाने पर प्रतिबंध की मांग की है। 

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published.