काम की खबर: जानें क्या है बूस्टर एसटीपी, कैसे बनाता है एकमुश्त निवेश का आसान रास्ता


ख़बर सुनें

एमएफ किंग के डीडी शर्मा कहते हैं कि म्यूचुअल फंड में किस्तों में निवेश के लिए तो आसानी से निवेशकों को विकल्प मिल जाते हैं, पर एकमुश्त निवेश का रास्ता बहुत कम है। ऐसे में निवेशक बूस्टर सिस्टमैटिक ट्रांसफर प्लान (एसटीपी) का रास्ता अपना सकते हैं। यह म्यूचुअल फंड का एक ऐसा उपाय है, जहां आप एकमुश्त अपने पैसों को रख दें और बाद में यही पैसा किस्तों में शेयर बाजारों में निवेश होता है। 

इस योजना में सामान्य एसटीपी की तुलना में रिटर्न भी अच्छा मिलता है। साथ ही आपको हर महीने किस्तों वाली रकम से छुटकारा मिल जाता है। हालांकि निवेश किस्तों में ही होगा, पर यह काम फंड प्रबंधक करता है।  बहुतेरे ऐसे निवेशक हैं, जो एकमुश्त निवेश करना चाहते हैं। पर उनके लिए दिक्कत यही होती है कि इस तरह के साधन का उनको पता नहीं होता है। 

सामान्य एसटीपी से 8.29 फीसदी ज्यादा रिटर्न
अगर हम बात करें आईसीआईसीआई प्रूडेंशयिल के बूस्टर एसटीपी की तो किसी ने जुलाई, 2021 में 12 लाख रुपये का निवेश आईसीआईसीआई प्रूडेंशियल में किया होगा तो यह रकम अब 12.13 लाख रुपये बन गई है। जबकि यही रकम सामान्य एसटीपी में घटकर 11.20 लाख रुपए रह गई है।

इस आधार पर देखा जाए तो सामान्य एसटीपी की तुलना में बूस्टर एसटीपी ने 8.29 फीसदी का फायदा दिया है। दिसंबर 2018 में आपने बूस्टर एसटीपी में 12 लाख रुपये लगाया होगा तो मई, 2022 तक यह 19.6 फीसदी का रिटर्न दिया, यानी निवेश बढ़कर 22.14 लाख रुपये हो गया। जबकि सामान्य एसटीपी का रिटर्न 12.5 फीसदी रहा। 12 लाख का निवेश 17.93 लाख रुपये ही हुआ।

बू्स्टर एसटीपी क्या है और कैसे काम करता है
एसटीपी का मतलब सिस्टमैटिक ट्रांसफर प्लान से है। जब बूस्टर की बात आती है तो यह सामान्य एसटीपी की तुलना में बेहतर काम करता है। ऐसा नहीं है कि केवल गिरावट में ही यह निवेश करे। हालांकि जब बाजार सस्ता होता है तो यह ज्यादा निवेश उसमें करता है और जब महंगा होता है तो निवेश को घटा देता है। इससे निवेशकों को अच्छा रिटर्न मिलने की उम्मीद रहती है।

कैसे यह निवेश का फैसला करता है
बूस्टर एसटीपी आपकी मूल रकम का 0.1 गुना से लेकर 5 गुना तक किस्तों के रूप में निवेश करता है जो इक्विटी के मूल्यांकन इंडेक्स पर आधारित होता है। आंकड़े  बताते हैं कि जब साल 2008 में सब प्राइम यानी पूरी दुनिया के बाजार गिरावट में थे, यूरोपियन संकट और कोविड के समय भी जब बाजार में भारी गिरावट थी, तब इसने ज्यादा निवेश शेयर में किया।
 
जैसा बाजार वैसा निवेश
बूस्टर एसटीपी बाजार की स्थितियों के आधार पर उसे किस्तों के रूप में निवेश करती है। उदाहरण के तौर पर अगर आपने 12 लाख रुपये जनवरी 2019 में इस स्कीम में लगाया होगा तो यह रकम इसने अगस्त 2020 तक बाजार में अलग-अलग समय में निवेश किया है। कभी इसने 50,000 रुपये का निवेश किया तो कभी 10 हजार रुपये तो कभी 2.84 लाख रुपये तक का निवेश किया है। इससे पता चलता है कि यह बाजार को पूरी तरह से समझ कर आपके पैसों के निवेश पर फोकस करती है।

 एकमुश्त निवेश के लिए सही विकल्प
कभी-कभी किसी वजह से लोगों के पास एकमुश्त पैसे आ जाते हैं। इसमें बोनस हो सकता है, या गिफ्ट के रूप में कुछ पैसे मिल सकते हैं। या किसी निवेश को बेचने से भी पैसे मिलते हैं। ऐसी स्थिति में इनको सही जगह निवेश करने के लिए यह एक बेहतर विकल्प है जहां से आपका पैसा आगे शेयर बाजार में निवेश होता है। अर्चना पांडे, निवेश सलाहकार।

निफ्टी में बूस्टर एसटीपी का चक्रवृद्धि रिटर्न

इंडेक्स                सामान्य एसटीपी    बूस्टर एसटीपी
निफ्टी 50                 9.8                         11.9
निफ्टी 500               10.1                        12.5
निफ्टी स्मालकैप         9.8                         12.9
निफ्टी मिडकैप150    12.4                        15.5
(यह रिटर्न 5 साल के आंकड़ों के आधार पर निकाला गया है। )

निफ्टी के हर इंडेक्स में बेहतर फायदा 
निफ्टी 50 इंडेक्स में अगर आईसीआईसीआई प्रूडेंशयिल के बूस्टर एसटीपी की बात करें तो इसने 11.9 फीसदी सीएजीआर की दर से रिटर्न दिया जबकि सामान्य एसटीपी का रिटर्न 9.8 फीसदी रहा। निफ्टी 500 इंडेक्स में बूस्टर का रिटर्न 12.5 और सामान्य का रिटर्न 10.1, निफ्टी स्मालकैप में बूस्टर का 12.9 और सामान्य का 9.8 तथा निफ्टी मिडकैप 150 में बूस्टर का रिटर्न 15.5 और सामान्य एसटीपी का रिटर्न 12.4 फीसदी रहा है।

विस्तार

एमएफ किंग के डीडी शर्मा कहते हैं कि म्यूचुअल फंड में किस्तों में निवेश के लिए तो आसानी से निवेशकों को विकल्प मिल जाते हैं, पर एकमुश्त निवेश का रास्ता बहुत कम है। ऐसे में निवेशक बूस्टर सिस्टमैटिक ट्रांसफर प्लान (एसटीपी) का रास्ता अपना सकते हैं। यह म्यूचुअल फंड का एक ऐसा उपाय है, जहां आप एकमुश्त अपने पैसों को रख दें और बाद में यही पैसा किस्तों में शेयर बाजारों में निवेश होता है। 

इस योजना में सामान्य एसटीपी की तुलना में रिटर्न भी अच्छा मिलता है। साथ ही आपको हर महीने किस्तों वाली रकम से छुटकारा मिल जाता है। हालांकि निवेश किस्तों में ही होगा, पर यह काम फंड प्रबंधक करता है।  बहुतेरे ऐसे निवेशक हैं, जो एकमुश्त निवेश करना चाहते हैं। पर उनके लिए दिक्कत यही होती है कि इस तरह के साधन का उनको पता नहीं होता है। 

सामान्य एसटीपी से 8.29 फीसदी ज्यादा रिटर्न

अगर हम बात करें आईसीआईसीआई प्रूडेंशयिल के बूस्टर एसटीपी की तो किसी ने जुलाई, 2021 में 12 लाख रुपये का निवेश आईसीआईसीआई प्रूडेंशियल में किया होगा तो यह रकम अब 12.13 लाख रुपये बन गई है। जबकि यही रकम सामान्य एसटीपी में घटकर 11.20 लाख रुपए रह गई है।

इस आधार पर देखा जाए तो सामान्य एसटीपी की तुलना में बूस्टर एसटीपी ने 8.29 फीसदी का फायदा दिया है। दिसंबर 2018 में आपने बूस्टर एसटीपी में 12 लाख रुपये लगाया होगा तो मई, 2022 तक यह 19.6 फीसदी का रिटर्न दिया, यानी निवेश बढ़कर 22.14 लाख रुपये हो गया। जबकि सामान्य एसटीपी का रिटर्न 12.5 फीसदी रहा। 12 लाख का निवेश 17.93 लाख रुपये ही हुआ।

बू्स्टर एसटीपी क्या है और कैसे काम करता है

एसटीपी का मतलब सिस्टमैटिक ट्रांसफर प्लान से है। जब बूस्टर की बात आती है तो यह सामान्य एसटीपी की तुलना में बेहतर काम करता है। ऐसा नहीं है कि केवल गिरावट में ही यह निवेश करे। हालांकि जब बाजार सस्ता होता है तो यह ज्यादा निवेश उसमें करता है और जब महंगा होता है तो निवेश को घटा देता है। इससे निवेशकों को अच्छा रिटर्न मिलने की उम्मीद रहती है।

कैसे यह निवेश का फैसला करता है

बूस्टर एसटीपी आपकी मूल रकम का 0.1 गुना से लेकर 5 गुना तक किस्तों के रूप में निवेश करता है जो इक्विटी के मूल्यांकन इंडेक्स पर आधारित होता है। आंकड़े  बताते हैं कि जब साल 2008 में सब प्राइम यानी पूरी दुनिया के बाजार गिरावट में थे, यूरोपियन संकट और कोविड के समय भी जब बाजार में भारी गिरावट थी, तब इसने ज्यादा निवेश शेयर में किया।

 

जैसा बाजार वैसा निवेश

बूस्टर एसटीपी बाजार की स्थितियों के आधार पर उसे किस्तों के रूप में निवेश करती है। उदाहरण के तौर पर अगर आपने 12 लाख रुपये जनवरी 2019 में इस स्कीम में लगाया होगा तो यह रकम इसने अगस्त 2020 तक बाजार में अलग-अलग समय में निवेश किया है। कभी इसने 50,000 रुपये का निवेश किया तो कभी 10 हजार रुपये तो कभी 2.84 लाख रुपये तक का निवेश किया है। इससे पता चलता है कि यह बाजार को पूरी तरह से समझ कर आपके पैसों के निवेश पर फोकस करती है।

 एकमुश्त निवेश के लिए सही विकल्प

कभी-कभी किसी वजह से लोगों के पास एकमुश्त पैसे आ जाते हैं। इसमें बोनस हो सकता है, या गिफ्ट के रूप में कुछ पैसे मिल सकते हैं। या किसी निवेश को बेचने से भी पैसे मिलते हैं। ऐसी स्थिति में इनको सही जगह निवेश करने के लिए यह एक बेहतर विकल्प है जहां से आपका पैसा आगे शेयर बाजार में निवेश होता है। अर्चना पांडे, निवेश सलाहकार।

निफ्टी में बूस्टर एसटीपी का चक्रवृद्धि रिटर्न

इंडेक्स                सामान्य एसटीपी    बूस्टर एसटीपी

निफ्टी 50                 9.8                         11.9

निफ्टी 500               10.1                        12.5

निफ्टी स्मालकैप         9.8                         12.9

निफ्टी मिडकैप150    12.4                        15.5

(यह रिटर्न 5 साल के आंकड़ों के आधार पर निकाला गया है। )

निफ्टी के हर इंडेक्स में बेहतर फायदा 

निफ्टी 50 इंडेक्स में अगर आईसीआईसीआई प्रूडेंशयिल के बूस्टर एसटीपी की बात करें तो इसने 11.9 फीसदी सीएजीआर की दर से रिटर्न दिया जबकि सामान्य एसटीपी का रिटर्न 9.8 फीसदी रहा। निफ्टी 500 इंडेक्स में बूस्टर का रिटर्न 12.5 और सामान्य का रिटर्न 10.1, निफ्टी स्मालकैप में बूस्टर का 12.9 और सामान्य का 9.8 तथा निफ्टी मिडकैप 150 में बूस्टर का रिटर्न 15.5 और सामान्य एसटीपी का रिटर्न 12.4 फीसदी रहा है।



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published.