कहीं आप भी तो नहीं देते बच्चे को ज़रूरत से ज्यादा न्यूट्रिशन, जानें इसके नुकसान

स्वस्थ शरीर के लिए पोषण बहुत ज़रूरी होता है.बच्चे की डाइट में पोषण और न्यूट्रिशन की मात्रा का ध्यान ज़्यादातर पैरेंट्स नहीं देते हैं. उन्हें लगता है कि बच्चे की डाइट में जितना ज़्यादा पोषण होगा, वे उतने सेहतमंद होंगे. हालांकि पैरेंट्स की यह सोच बेहद गलत है.

अगर बच्चे को आपने उनकी ज़रूरत से अधिक पोषण यानी ओवरन्यूट्रिशन देना शुरू कर दिया, तो इसका असर बच्चे की सेहत पर पड़ सकता है. क्या आपने कभी सोचा है अगर, बच्चे को जरूरत से अधिक पोषण देते हैं और वह कोई फिजिकल एक्टिविटी नहीं कर रहा है तो उस एक्स्ट्रा न्यूट्रिशन का क्या होता है?

इसे भी पढ़ें : विंटर में नन्‍हें बच्चों को खास देखभाल की पड़ती है जरूरत, इन ज़रूरी बातों का रखें ख्‍याल

एनआइएच के मुताबिक बच्चे को अधिक न्यूट्रिशंस देने की वजह से उसकी हेल्थ पर बुरा असर पड़ सकता है. इसलिए पेरेंट्स को इस मामले में अलर्ट रहने की ज़रूरत है.

ओवर-न्यूट्रिशन बच्चे को पहुंचाते हैं नुकसान
बच्चों को खाना खिलाते वक्त पैरेंट्स की कोशिश होती है कि वे बच्चे को न्यूट्रिशन से भरपूर खाना दें. इसी चक्कर में पैरेंट्स उन्हें पहल-सब्जियां और जूस जैसी चीज़ें देते हैं. एक्स्ट्रा न्यूट्रिशंस बच्चे की बॉडी में कई बार जमा हो जाता है, जिसके साथ बच्चे को कई बीमारियों का सामना करना पड़ सकता है.

– बच्चे के कितना न्यूट्रिशन देना है, यह उसकी फिजिकल एक्टिविटी के आधार पर तय कर सकते हैं.

-बच्चों को मार्केट से रेडीमेड चीजें जैसे, पैक्ड फूड और फ्रूट जूस नहीं देना चाहिए.

  • बच्चों की लाइफ स्टाइल में हर रोज फिजिकल एक्टिविटी को शामिल करना चाहिए और उन्हें एक्सरसाइज की आदत डालनी चाहिए.

इसे भी पढ़ें : छोटे बच्‍चों को जरूर पिलाएं मूंग दाल का पानी, मिलेगा चमत्कारी फायदा

– ज्यादातर पेरेंट्स बच्चों को खाना खिलाने के लिए उनका ध्यान टीवी या फोन मे लगा देते हैं, जिसकी वजह से बच्चा ओवरईटिंग कर लेता है.

-फ्रूट्स हेल्दी होते हैं, लेकिन शुगरी फ्रूट्स बच्चों के लिए हानिकारक हो सकते हैं, जिससे उनका बॉडी फैट बढ़ सकता है.

– बच्चों को अनहेल्दी चीजें जैसे जंक फूड, कोल्ड ड्रिंक्स आदि नहीं देनी चाहिए.

– पेरेंट्स अपने बच्चों को अधिक मात्रा में घी,बादाम, काजू, ड्राई फ्रूट्स देते हैं.लेकिन वह कई बार बच्चों के लिए हानिकारक साबित होते हैं. हेवी डाइट के बावजूद आजकल बच्चों की शारीरिक गतिविधियां कम हो गई है, जिसकी वजह से ये पोषण उन्हें फायदे की जगह नुकसान पहुंचाते हैं.

बच्चो को न्यूट्रिशंस कम मिलते हैं, तो वे कुपोषित रह जाते हैं और न्यूट्रिशंस की मात्रा अधिक होने पर वे सुस्त और फैटी हो जाते हैं. पेरेंट्स को बच्चों के न्यूट्रिशंस का अधिक ख्याल रखना चाहिए. बच्चों के न्यूट्रिशंस की मात्रा उनके फिजिकल एक्टिविटी व उनके हाइट वेट पर निर्भर कर सकती है.

Tags: Child Care, Health, Lifestyle, Parenting tips

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published.