कंधे पर शव ले जाने का मामला : बिजली विभाग के मुख्य अभियंता समेत छह पर गाज, इंस्पेक्टर-सिपाही भी दोषी

ख़बर सुनें

पिता द्वारा कंधे पर बेटे का शव ले जाने के मामले में पूर्वांचल विद्युत वितरण निगम के एमडी ने मुख्य अभियंता, अधीक्षण अभियंता को चार्जशीट देने के साथ ही अधिशासी अभियंता, एसडीओ और जेई को निलंबित कर दिया है, जबकि लाइनमैन को हटा दिया गया है। इसके अलावा पहले से निलंबित इंस्पेक्टर व सिपाही के खिलाफ कार्रवाई की संस्तुति की गई है।

करछना के रामपुर उपरहार के बजरंगी यादव के 10 वर्षीय बेटे शुभम की सोमवार को करंट लगने से मौत हो गई थी। इसके अगले दिन शव पोस्टमार्टम के लिए मोर्चरी लाया गया। पोस्टमार्टम के बाद एंबुलेंस नहीं मिलने पर बजरंगी को कंधे पर बेटे का शव घर ले जाना पड़ा था। इस मामले में डीएम की ओर से गठित मोतीलाल नेहरू राष्ट्रीय प्रौद्योगिकी संस्थान के प्राचार्य, सीएमओ तथा एसडीएम करछना की कमेटी ने शुक्रवार को जांच रिपोर्ट डीएम को सौंप दी।

इसमें इंस्पेक्टर टीकाराम वर्मा तथा सिपाही विजय भारद्वाज की लापरवाही सामने आई है। डीएम संजय कुमार खत्री ने बताया कि बच्चे की मौत के बाद ही परिवार वालों तथा ग्रामीणों ने विरोध दर्ज कराया था लेकिन इंस्पेक्टर ने ठीक से पर्यवेक्षण नहीं किया। वहीं सिपाही पोस्टमार्टम के बाद शव छोड़कर चला गया। इंस्पेक्टर तथा सिपाही के खिलाफ कार्रवाई की संस्तुति की गई है। 

बता दें कि  इंस्पेक्टर टीकाराम को घूस लेने का ऑडियो वायरल होने के बाद बृहस्पतिवार को ही निलंबित किया जा चुका है। जांच में मोर्चरी से एंबुलेंस नहीं मिलने पर भी सवाल उठाए गए हैं। हालांकि इसमें किसी को जिम्मेदार नहीं ठहराया गया है। डीएम ने बताया कि  पीड़ित परिवार को पांच लाख रुपये दिए जाएंगे। इसकी मंजूरी मिल गई है। अन्य योजनाआें का भी लाभ दिया जाएगा। इसके लिए एसडीएम से कहा गया है।

दूसरी ओर, पूर्वांचल विद्युत वितरण निगम के प्रबंध निदेशक विद्याभूषण ने लापरवाही का दोषी पाते हुए मुख्य अभियंता विनोद कुमार गंगवार और अधीक्षण अभियंता प्रशांत सिंह को चार्जशीट जारी की है। जबकि अधिशासी अभियंता अभिषेक कुमार, एसडीओ अमित गुप्ता और अवर अभियंता आशीष को निलंबित करने का आदेश दिया है। इनके अलावा लाइनमैन रामजियावान को हटा दिया है। उधर, इस मामले के तूल पकड़ने के बाद भाजपा विधायक पीयूष रंजन निषाद के अलावा सपा एमएलसी डॉ. मान सिंह, सपा के पूर्व जिलाध्यक्ष योगेश चंद्र यादव समेत अनेक नेता बजरंगी के घर पहुंचे और हर स्तर पर मदद का आश्वासन दिया।

जांच रिपोर्ट के अन्य प्रमुख बिंदु

  • असामान्य मृत्यु (करंट लगने से)
  • बजरंगी को बीच रास्ते में ही उपलब्ध हो गया था वाहन
  • गांव के नजदीक स्थित अस्पताल में पहुंचने से पहले हो गई थी मौत
  • मोर्चरी से एंबुलेंस नहीं मिलने पर सवाल लेकिन जिम्मेदारी तय नहीं
  • चौराहों पर लगे कैमरों में सिर्फ पत्नी संग दिखा बजरंगी, नजर नहीं आए ग्रामीण
  • एसआरएन अस्पताल के दस्तावेज में नहीं दर्ज है शुभम का नाम

विस्तार

पिता द्वारा कंधे पर बेटे का शव ले जाने के मामले में पूर्वांचल विद्युत वितरण निगम के एमडी ने मुख्य अभियंता, अधीक्षण अभियंता को चार्जशीट देने के साथ ही अधिशासी अभियंता, एसडीओ और जेई को निलंबित कर दिया है, जबकि लाइनमैन को हटा दिया गया है। इसके अलावा पहले से निलंबित इंस्पेक्टर व सिपाही के खिलाफ कार्रवाई की संस्तुति की गई है।

करछना के रामपुर उपरहार के बजरंगी यादव के 10 वर्षीय बेटे शुभम की सोमवार को करंट लगने से मौत हो गई थी। इसके अगले दिन शव पोस्टमार्टम के लिए मोर्चरी लाया गया। पोस्टमार्टम के बाद एंबुलेंस नहीं मिलने पर बजरंगी को कंधे पर बेटे का शव घर ले जाना पड़ा था। इस मामले में डीएम की ओर से गठित मोतीलाल नेहरू राष्ट्रीय प्रौद्योगिकी संस्थान के प्राचार्य, सीएमओ तथा एसडीएम करछना की कमेटी ने शुक्रवार को जांच रिपोर्ट डीएम को सौंप दी।

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published.