उदयपुर में कांग्रेस का नव संकल्प चिंतन शिविर: 74 नेताओं के साथ पहुंचे राहुल गांधी, जोरदार हुआ स्वागत


09:58 AM, 13-May-2022

प्रियंका गांधी विशेष विमान से उदयपुर पहुंचीं।
– फोटो : सोशल मीडिया

चिंतन शिविर की सभी बैठकें ताज अरावली में ही होंगी। शिविर में तीन ग्रुप डिस्कशन, 6 विशेष समितियों की बैठक और कांग्रेस कार्यसमिति की अहम बैठक होगी। बैठक में कांग्रेस के दाे मुख्यमंत्री सहित कार्यसमिति के तमाम सदस्य, कांग्रेस कमेटी के सदस्य सहित तमाम बड़े नेता शामिल होंगे। कांग्रेस के ज्यादातर नेता उदयपुर पहुंच चुके हैं। इनमें सोनिया और प्रियंका गांधी समेत शशि थरूर, केसी वेणुगोपाल, रणदीप सुरजेवाला, मल्लिकार्जुन खड़गे आदि नेता शामिल हैं। राहुल गांधी, छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल समेत 74 नेता ट्रेन से उदयपुर पहुंचे। सोनिया और प्रियंका विशेष विमान से ही शुक्रवार सुबह उदयपुर पहुंचे। 

चिंतन शिविर के लिए ताज अरावली, अनंता रिसोर्ट, ऑरिका लेमन ट्री और रेडिसन ब्लू में नेताओं को ठहरने की व्यवस्था की गई है। राहुल, सोनिया और प्रियंका गांधी समेत ज्यादातर वरिष्ठ नेता ताज अरावली में रुके हैं। होटल्स में 9 राज्यों से शैफ बुलवाकर खास तरह की डिश नेताओं के लिए तैयार करवाई जा रही है।

09:36 AM, 13-May-2022

राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और सचिन पायलट समेत अन्य नेताओं ने तैयारियों का जायजा लिया।
– फोटो : अमर उजाला

उदयपुर में कांग्रेस के नव संकल्प चिंतन शिविर में भाग लेने पहुंचे वरिष्ठ नेता राहुल गांधी का कार्यकर्ताओं ने स्वागत किया। कांग्रेस का तीन दिवसीय चिंतन शिविर शुक्रवार को शुरू हो रहा है। राहुल गांधी दिल्ली से ट्रेन की यात्रा  कर उदयपुर पहुंचे। उनके साथ कांग्रेस के 74 नेता मौजूद थे। चेतक एक्सप्रेस में राहुल गांधी सहित सभी नेताओं के लिए दो डिब्बे पहले से ही आरक्षित थे। राहुल गांधी का कांग्रेस कार्यकर्ताओं नेदिल्ली के सराय रोहिल्ला से लेकर उदयपुर तक कई स्टेशनों पर स्वागत किया गया। इस दौरान राहुल ने लोगों का अभिवादन स्वीकार किया और समस्याओं को भी सुना। उदयपुर रेलवे स्टेशन पर त्योहार जैसा माहौल था। 

राहुल गांधी बस में सवार होकर ताज अरावली होटल के लिए रवाना हुए। राहुल गांधी और मुख्यमंत्री अशोक गहलोत एक साथ बैठे नजर आए। पीछे छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल बैठे थे। एक के बाद एक राज्यों के चुनावों में हार से पस्त कांग्रेस के उदयपुर में चिंतन शिविर का आयोजन कर रही है। कांग्रेस का ये चिंतन शिविर 13 से 15 मई तक यानी तीन दिन चलेगा।  

09:34 AM, 13-May-2022

राहुल गांधी का स्वागत करने इंतजार करते कार्यकर्ता।
– फोटो : अमर उजाला

नव संकल्प चिंतन शिविर का प्रारूप जारी 

कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी के संबोधन से चिंतन शिविर की शुरुआत होगी। 13 मई की सुबह 11 बजे तक 400 से ज्यादा प्रतिनिधि और नेता चिंतन शिविर पहुंचेंगे। उसके बाद दोपहर 12 बजे चिंतन शिविर शुरू हो जाएगा। दोपहर 2 बजे कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी चिंतन शिविर में शिरकत करेंगी। वहां राजस्थान प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष गोविंद सिंह डोटासरा पार्टी की राष्ट्रीय अध्यक्ष का स्वागत करेंगे। दो बजे सोनिया गांधी के सम्मान में वेलकम स्पीच दी जाएगी। कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी 2 बजकर 10 मिनट पर चिंतन शिविर में आए लोगों को संबोधित करेंगी। इसमें चिंतन शिविर के मकसद और देश के वर्तमान हालातों को लेकर संबोधन देंगी। दोपहर 3 बजे से चिंतन शिविर में ग्रुप संवाद शुरू होगा जो शाम 5 बजे तक चलेगा।

दूसरे दिन भी ग्रुप संवाद होगा

चिंतन शिविर के दूसरे दिन 14 मई को सुबह 10:30 बजे चिंतन शिविर का कार्यक्रम ग्रुप संवाद के साथ शुरू होगा। उसके बाद दोपहर 2:30 बजे तक ग्रुप संवाद चलेगा। रात 8 बजे दूसरे दिन का कार्यक्रम समाप्त होगा। तीसरे दिन सुबह 11 बजे से बैठकें शुरू होंगी। विभिन्न प्रस्ताव चिंतन शिविर में पारित होंगे। दोपहर 1 बजे चिंतन शिविर में आए सभी प्रतिनिधियों के साथ ग्रुप फोटो सेशन होगा। दोपहर 3 बजे राहुल गांधी का भी संबोधन होगा। इसके बाद प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष गोविंद सिंह डोटासरा चिंतन शिविर में आए सभी नेताओं का धन्यवाद देंगे। शाम 4 बजकर 15 मिनट पर चिंतन शिविर का समापन हो जाएगा। 

 

09:22 AM, 13-May-2022

उदयपुर में कांग्रेस का नव संकल्प चिंतन शिविर: 74 नेताओं के साथ पहुंचे राहुल गांधी, जोरदार हुआ स्वागत

कांग्रेस का तीन दिवसीय नव संकल्प चिंतन शिविर शुक्रवार से राजस्थान के उदयपुर में शुरू हो रहा है। कांग्रेस का चिंतन शिविर 13 से 15 मई तक चलेगा। चुनाव में लगातार हार का सामना कर रही पार्टी अपनी पुनर्संरचना और ध्रुवीकरण की राजनीति का मुकाबला करने के लिए रणनीति बनाएगी। शिविर में कांग्रेस के 400 से अधिक दिग्गज शिरकत करेंगे। कांग्रेस के मुख्य प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने कहा कि नव संकल्प चिंतन शिविर में अर्थव्यवस्था के लगातार पतन, बढ़ती आर्थिक विषमता, महंगाई और कृषि क्षेत्र को कुछ चुनिंदा समूहों के हवाले करने के गहरे षड्यंत्र पर भी विमर्श होगा। साथ ही चीन के भारतीय क्षेत्र में घुसने, अनुसूचित जाति/जनजाति और अल्पसंख्यकों के अधिकारों पर हमले पर भी चर्चा की जाएगी।



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published.