आगरा: अमर होटल मामले में दोनों भाई पांच-पांच लाख रुपये से होंगे पाबंद, शस्त्र लाइसेंस हो सकते हैं निरस्त

सार

अमर होटल में चार अप्रैल को अमर देव साहनी ने बोर्ड मीटिंग बुलाई थी। इसी मीटिंग में दोनों भाइयों के बीच विवाद हुआ था। दोनों ने एक दूसरे पर मारपीट करने के आरोप लगाए।  दोनों की ओर से मुकदमा भी दर्ज कराया गया।

ख़बर सुनें

आगरा के अमर होटल में बोर्ड मीटिंग के दौरान मालिक अमर देव साहनी के बेटों रोमिंदर सिंह और जसविंदर सिंह के बीच मारपीट के मामले की पुलिस विवेचना कर रही है। दोनों भाइयों को पांच-पांच लाख रुपये से पाबंद करने के लिए मजिस्ट्रेट को रिपोर्ट भेज दी गई है। वहीं जसविंदर के दो और रोमिंदर सिंह के एक शस्त्र लाइसेंस निरस्तीकरण की रिपोर्ट भी जिला प्रशासन को दी गई है।

अमर होटल में चार अप्रैल को अमर देव साहनी ने बोर्ड मीटिंग बुलाई थी। इसमें मैनेजिंग डायरेक्टर बड़े भाई रोमिंदर सिंह और छोटे भाई वाइस चेयरमैन जसविंदर के बीच काम के बंटवारे को लेकर विवाद हुआ था। दोनों ने एक-दूसरे पर मारपीट के आरोप लगाए। पहले रोमिंदर तो बाद में जसविंदर की तहरीर पर मुकदमे दर्ज किए गए। पुलिस ने विवेचना शुरू कर दी है, जिस कमरे में मीटिंग थी, वहां कैमरे नहीं लगे हैं। इस पर कर्मचारियों से बात की गई। अब उनके बयान दर्ज किए जाएंगे।

दोनों भाइयों पर तीन शस्त्र लाइसेंस 

थाना ताजगंज के प्रभारी निरीक्षक भूपेंद्र कुमार बालियान का कहना है कि दोनों भाइयों में मारपीट हुई थी। इसको देखते हुए दोनों को पांच-पांच लाख रुपये से पाबंद करने के लिए रिपोर्ट भेजी गई है। अब उन्हें नोटिस जारी होगा। इसके बाद वो अपना पक्ष रखेंगे। 

दोनों भाई पुरानी ईदगाह कॉलोनी में रहते हैं। यह इलाका रकाबगंज क्षेत्र में आता है। जसविंदर के पास एक पिस्टल और दूसरा बंदूक का लाइसेंस है। वहीं रोमिंदर सिंह के पास भी लाइसेंस है। मगर, शस्त्र है या नहीं, यह देखा जा रह है। दोनों के लाइसेंस निरस्तीकरण की रिपोर्ट प्रशासन को भेजी गई है।

रोमिंदर ने माता-पिता को अपने दिए शेयर्स

रोमिंदर सिंह साहनी शनिवार को मीडिया के सामने आए। उन्होंने कहा कि समाज में भ्रांति है कि हम परिजन आपस में संपत्ति को लेकर लड़ रहे हैं, जबकि सारा परिदृश्य केवल छोटे भाई जसविंदर सिंह के अविवेकपूर्ण कृत्य और उद्दंडता के कारण है। 

उन्होंने कहा कि वह वर्षों से पिता, मुझे और परिवार के लोगों को संपत्ति के कारण तंग करता आ रहा है। बोर्ड मीटिंग में पिता से अपशब्द कहे। मुझसे मारपीट की, जिससे चोट आईं। मैं शांति चाहता हूं। इसलिए वह अपने शेयर्स मां-पिता को दे रहे हैं। अमन चैन से रहना चाहते हैं। इसलिए समाज की जरूरत है।

छोटे भाई की पत्नी ने लगाया यह आरोप 

जसविंदर सिंह की पत्नी रजमी कौर साहनी ने महिला थाना में प्रार्थना पत्र दिया है। इसमें आरोप लगाया कि जेठ रोमिंदर और उनकी पत्नी शीतल कौर की नजर संपत्ति पर थी। अक्सर वो पति को झूठे केस में फंसाकर जेल भिजवाने की धमकी देते थे। इसकी शिकायत सास ससुर से की। 

विवाद बढ़ने पर कार्य का विभाजन हुआ। चार अप्रैल को मीटिंग में पति से मारपीट की गई। वह उन्हें किसी तरह निकालकर लाई। ससुर अमर देव साहनी रोमिंदर सिंह के षड्यंत्र में शामिल होकर अन्याय करना चाहते हैं। अब वो उन्हें बेटी के साथ घर से निकालना चाहते हैं।

विस्तार

आगरा के अमर होटल में बोर्ड मीटिंग के दौरान मालिक अमर देव साहनी के बेटों रोमिंदर सिंह और जसविंदर सिंह के बीच मारपीट के मामले की पुलिस विवेचना कर रही है। दोनों भाइयों को पांच-पांच लाख रुपये से पाबंद करने के लिए मजिस्ट्रेट को रिपोर्ट भेज दी गई है। वहीं जसविंदर के दो और रोमिंदर सिंह के एक शस्त्र लाइसेंस निरस्तीकरण की रिपोर्ट भी जिला प्रशासन को दी गई है।

अमर होटल में चार अप्रैल को अमर देव साहनी ने बोर्ड मीटिंग बुलाई थी। इसमें मैनेजिंग डायरेक्टर बड़े भाई रोमिंदर सिंह और छोटे भाई वाइस चेयरमैन जसविंदर के बीच काम के बंटवारे को लेकर विवाद हुआ था। दोनों ने एक-दूसरे पर मारपीट के आरोप लगाए। पहले रोमिंदर तो बाद में जसविंदर की तहरीर पर मुकदमे दर्ज किए गए। पुलिस ने विवेचना शुरू कर दी है, जिस कमरे में मीटिंग थी, वहां कैमरे नहीं लगे हैं। इस पर कर्मचारियों से बात की गई। अब उनके बयान दर्ज किए जाएंगे।

दोनों भाइयों पर तीन शस्त्र लाइसेंस 

थाना ताजगंज के प्रभारी निरीक्षक भूपेंद्र कुमार बालियान का कहना है कि दोनों भाइयों में मारपीट हुई थी। इसको देखते हुए दोनों को पांच-पांच लाख रुपये से पाबंद करने के लिए रिपोर्ट भेजी गई है। अब उन्हें नोटिस जारी होगा। इसके बाद वो अपना पक्ष रखेंगे। 

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published.