अप्रैल से जुलाई तक देशभर में होंगी 40 लाख शादियां, अकेले दिल्‍ली में 3 लाख बारातों में बजेगा बैंड-बाजा!

नई दिल्‍ली : अप्रैल से शुरू होने जा रहे शादियों के सीजन में इस बार धूम धड़ाका देखने को मिलेगा. कोरोना काल में प्रतिबंधों के चलते सुस्‍त रहे शादियों के सीजन की भरपाई इस साल होने की पूरी उम्‍मीद है, क्‍योंकि अप्रैल से जून तक देशभर में बंपर शादियों (Weddings) का अनुमान है. कहा जा रहा है कि 14 अप्रैल से शुरू होने जा रहे शादियों के सीजन (Wedding Season) में अगले तीन महीने तक देशभर में लगभग 40 लाख शादियां होंगी. अनुमान के अनुसार, अकेले दिल्ली (Delhiअप्रैल से जुलाई तक देशभर में होंगी 40 लाख शादियां, अकेले दिल्‍ली में 3 लाख बारातों में बजेगा बैंड-बाजा) में ही करीब 3 लाख शादियां होंगी. बंपर शादियों के चलते दिल्ली सहित देश के बाजार पूरी तरह तैयार है और 5 लाख करोड़ रुपये से ज्यादा का व्यापार होने की संभावनाएं है.

दरअसल, इस वर्ष होली के त्योहारी सीजन में लगभग 30 प्रतिशत व्यापार वृद्धि से हुए जोरदार व्यापार से उत्साहित होकर दिल्ली सहित देशभर के व्यापारी अब शादी के सीजन की बिक्री की तैयारियों में जुट गए हैं. 14 अप्रैल से शुरू होकर 9 जुलाई तक चलने वाले इस शादी के सीजन में देशभर में लगभग 40 लाख शादियों होने का अनुमान है और इस सीजन में लगभग 5 लाख करोड़ रुपए से अधिक का व्यापार होगा.

व्‍यापारी नेता और कंफेडरेशन ऑफ़ ऑल इंडिया ट्रेडर्स (कैट) के राष्ट्रीय महामंत्री प्रवीण खंडेलवाल का कहना है कि अकेले दिल्ली में ही इस सीजन में लगभग 3 लाख से ज्यादा शादियों होने का अनुमान है, जिससे दिल्ली में ही लगभग 1 लाख करोड़ रुपये के व्यापार की संभावना है. खंडेलवाल ने कहा कि केंद्र सरकार द्वारा कोरोना के पूरे प्रतिबंध हटने के बाद अब यह पहला मौका है, जब दिल्ली सहित देश भर के व्यापारी कोरोना से हुए व्यापार के नुकसान की कुछ भरपाई होने की उम्मीद लगाए बैठे हैं. बीते दो वर्षों में कोविड एवं शादियों के बेहद कम मुहूर्त के दिन होने तथा सरकार द्वारा लगाए अनेक प्रतिबंधों के चलते शादियां बहुत ही छोटे स्केल पर व कम संख्या में हुई थी. अब लंबे अर्से के बाद शादियों के सीजन में मुहूर्त के अनुसार 43 दिन का इस बार शादियों का मुहूर्त आया है.

कैट की आध्यात्मिक एवं वैदिक ज्ञान कमेटी के चेयरमैन तथा आचार्य दुर्गेश तारे ने बताया कि सनातन धर्म में पुराणों के अनुसार, तारों की गणना के हिसाब से अप्रैल महीने में 14 ,15 ,16 , 17 , 19 ,20 , 21, 22 , 23, 24 एवं 27 जबकि मई महीने में 2 , 3, 9, 10, 11, 12, 15, 17, 19, 20, 21, 26, 27 एवं 31 तथा जून महीने में 1, 5, 6, 7, 8, 9, 10, 11, 13, 17, 23, 24 एवं जुलाई में 4, 6, 7, 8 एवं 9 है. उन्‍होंने कहा कि सनातन धर्म के अलावा आर्य समाज, सिख समाज, पंजाबी बिरादरी, अन्य धर्मों सहित अन्य अनेक वर्ग हैं, जो मुहूर्त के बारे में विचार नहीं करते, लेकिन फिर भी इस सीजन में ही अन्य अनेक लोग भी शादी करेंगे.

खंडेलवाल का अनुमान है कि शादी के सीजन में लगभग 5 लाख करोड़ रुपये का प्रवाह बाज़ारों में शादी की खरीदी के माध्यम से होगा. उनके अनुसार, शादियों के सीजन के अच्छे व्यापार की संभावनाओं को देखते हुए देशभर के व्यापारियों ने व्यापक तैयारियां की हैं और होली पर हुए 30 प्रतिशत कारोबार वृद्धि से उपजे उत्साह को बाज़ारों में बरकरार रखने के सभी प्रबंध किए जा रहे हैं. दिल्ली सहित देशभर में बैंक्वेट हॉल, होटल, खुले लॉन, फार्म हाउस एवं शादियों के लिए अन्य अनेक प्रकार के स्थान पूरी तरह तैयार हैं.

Tags: Wedding, Wedding Ceremony

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published.